बिहार के क्वारंटीन सेंटर पर सुविधा के नाम पर हो रहा भारी भ्रष्टाचार,साबित होगा देश का सबसे बड़ा घोटाला-HAM

बिहार के क्वारंटीन सेंटर पर सुविधा के नाम पर हो रहा भारी भ्रष्टाचार,साबित होगा देश का सबसे बड़ा घोटाला-HAM

Patna : हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के राष्ट्रीय महासचिव सह प्रवक्ता धीरेंद्र कुमार कुमार सिन्हा उर्फ धीरेन्द्र मुन्ना ने क्वारंटीन केंद्रों को लेकर राज्य सरकार से श्वेत पत्र जारी करने की मांग की है।उन्होंने कहा कि क्वारंटीन केंद्रों पर सरकारी सुविधा भविष्य में देश का सबसे बड़ा घोटाला के रूप में सामने आएगा

हम प्रवक्ता ने कहा कि एक तरफ राज्य सरकार प्रवासी बिहारियों के लिए क्वारंटीन केंद्रों पर उपलब्ध कराई जा रही सुविधाओं के बारे में अखबारों में विज्ञापन जारी कर दावा कर रही है कि अमुक-अमुक सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है।वहीं, दूसरी ओर बिहार के प्राय: सभी जिलों से यह भी खबर आ रही है कि सुविधाविहीन क्वारंटीन केंद्रों पर प्रवासी बिहारियों द्वारा भोजन, रौशनी और अन्य सुविधाओं को लेकर हंगामा, सड़क जाम,भूख हड़ताल और आंदोलन भी जारी है।

 हम प्रवक्ता धीरेंद्र कुमार सिन्हा उर्फ धीरेन्द्र मुन्ना ने राज्य सरकार से जानना चाहा है कि जब प्रवासी मजदूरों एवं श्रमिकों को क्वारंटीन केंद्रों पर सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है तो आए दिन हर जिले में प्रवासी बिहारियों द्वारा भोजन, रौशनी, मेडिसीन किट आदि को लेकर आंदोलन और हंगामा क्यों हो रहा है? 

धीरेंद्र कुमार सिन्हा ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा एकांतवास केंद्रों पर रह रहे प्रवासियों के साथ बातचीत कर फीडबैक लेने की घटना को अधिकारियों द्वारा सरकार को दिग्भ्रमित करने वाला कार्य बताया है। साथ ही जहां पारदर्शिता का घोर अभाव है।

हम प्रवक्ता ने राज्य सरकार को चुनौती देते हुए कहा है कि अधिकारियों की उपस्थिति में जिले के एक-दो केन्द्रों के प्रवासी बिहारियों से बात करने से सच्चाई सामने नहीं आ जाएगी। उन्होंने कहा कि यदि सरकार केंद्रों पर प्रवासी बिहारियों को मिल रही सुविधाओं को लेकर सचमुच में गंभीर है तो मुख्यमंत्री या कोई भी मंत्री बगैर किसी सूचना के किसी भी जिला मुख्यालय और आसपास के ही क्वारंटीन केंद्रों पर जाकर मुआयना कर लें,सच्चाई सामने आ जाएगी।

उन्होंने कहा कि भ्रष्ट अधिकारियों और नेताओं के लिए क्वारंटीनकेंद्र लूट का अड्डा बन गया है। हम नेता ने कहा कि गया में रौशनी के अभाव में एक प्रवासी बिहारी मजदूर के इकलौते पुत्र की मौत सर्प दंश से हो गई। वहीं,एक और युवक 14 दिनों तक सड़क मार्ग से पुणे से गया लौटा। लेकिन उसे क्वारंटीन सेंटर में न रखकर अधिकारी एक- दूसरे केन्द्र पर जाने को कहते रहे।रेल से कटकर उक्त युवक की दर्दनाक मौत हो गई, यही हाल पूरे प्रदेश की है।

Find Us on Facebook

Trending News