BREAKING NEWS : जिनको कभी कहते थे अपना मित्र, अब उन्ही पर डंडे बरसाने लगी पुलिस

BREAKING NEWS : जिनको कभी कहते थे अपना मित्र, अब उन्ही पर डंडे बरसाने लगी पुलिस

PATNA : वेतनमान और स्थाई नौकरी की मांग को लेकर अहले सुबह बीजेपी दफ्तर के बाहर सैकड़ों पुलिस मित्र इक्कठा हो गए हैं। इस कड़ाके की ठंड में महिलाएं, पुरुषों के साथ छोटे-छोटे बच्चे भी शामिल हैं। बता दें कि 2012 में ग्राम रक्षा दल सह पुलिस मित्रों को स्थानीय थाने में बहाल किया गया था. हालांकि पैमाना क्या था? उस समय भी स्पष्ट नहीं किया गया. आज सभी लोग वेतनमान और नौकरी स्थाई करने की मांग के साथ आत्मदाह करने का अल्टीमेटम दे रहे हैं. कर्मियों का कहना है कि उनके सामने भूखमरी की समस्या उतपन्न हो गई है. सभी लोग सरकारी कार्यों में लगातार योगदान देते आ रहे हैं. उसके एवज में सरकार उन्हें कुछ नहीं दे रही है। 

सैकड़ो की संख्या में प्रदर्शन करने आये पुलिस मित्र ने जमकर कोतवाली थाना क्षेत्र के बीजेपी मुख्यालय के गेट पर हंगामा किया। घंटों कड़कड़ाती ठंड में अपनी मांगों को लेकर जमे प्रदर्शन कर रहे पुलिस मित्रो को जिला प्रशासन और पुलिस कर्मियों ने समझाने की पुरजोर कोशिश की बावजूद पुलिस मित्र बीजेपी दफ्तर के मुख्य द्वार पर आत्मदाह का बैनर लगाए डटे रहे। प्रदर्शनकारी वेतनमान निर्धारण और स्थाई नौकरी की मांग कर रहे थे।

पुलिस से साथ हुई झड़प


दरअसल प्रदर्शनकारियों के प्रदर्शन से जाम का आलम उठ खड़ा होने लगा जिसको लेकर जिला प्रशासन और अतिरिक्त बालो ने हल्का बलप्रयोग करते हुए प्रदर्शनकरिगों को हटाने में जुट गए इस बीच प्रदर्शनकरिगों और पुलिस के बीच हल्की नोकझोंक भी हुई जिसके बाद पुलिस ने खींच खीच कर प्रदर्शनकारियों को वहां से हटाया है। तस्वीरों में देखा जा सकता है कि अपने विभिन्न मांगों को लेकर इकट्ठा हुए पुलिस मित्रो को पुलिस ने किस तरह हटाया वही कई प्रदर्शनकारी महिला व पुरुष को हिरासत में भी लिया है ।बताते चले आपको की पुलिस मित्र बुद्धवार को तड़के सुबह बीजेपी कार्यालय के मुख्य द्वार पर

 बता दें कि 2012 में ग्राम रक्षा दल सह पुलिस मित्रों को स्थानीय थाने में बहाल किया गया था. हालांकि पैमाना क्या था? उस समय भी स्पष्ट नहीं किया गया. आज सभी लोग वेतनमान और नौकरी स्थाई करने की मांग के साथ आत्मदाह करने का अल्टीमेटम दे रहे हैं. कर्मियों का कहना है कि उनके सामने भूखमरी की समस्या उतपन्न हो गई है. सभी लोग सरकारी कार्यों में लगातार योगदान देते आ रहे हैं. उसके एवज में सरकार उन्हें कुछ नहीं दे रही है

Find Us on Facebook

Trending News