आईएएस ने राष्ट्रपिता के खिलाफ की विवादित टिप्पणी, एनसीपी ने की कार्रवाई की मांग

आईएएस ने राष्ट्रपिता के खिलाफ की विवादित टिप्पणी, एनसीपी ने की कार्रवाई की मांग

 MUMBAI:राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की त्याग, संघर्ष और जीवन की जिन कहानियों को पढ़कर कोई व्यक्ति आईएएस की परीक्षा पास करता है. इसके बाद भी उनके खिलाफ टिप्पणी करता है, तो इसे मानसिकता का परिचायक माना जाये. मुंबई के BMC में कार्यरत एक आईएएस निधि चौधरी ने महात्मा गाँधी के खिलाफ ऐसा ही एक आपतिजनक टिप्पणी किया है. हालाँकि बाद में उन्होंने इस ट्विट को डिलीट कर दिया. अपने ट्विट में उन्होंने लिखा था. 

"हम शानदार रूप से 150वीं जयंती मना रहे हैं, यही मौका है कि हम अपने नोटों से उनकी तस्वीर हटा दें, दुनिया भर से उनकी मूर्तियां हटा दें, उनके नाम से रखी गई संस्थाएं और सड़कों के नाम बदल दें, ये हम सभी की ओर से उन्हें असली श्रद्धांजलि होगी, 30 जनवरी 1948 के लिए थैंक्यू गोडसे." 

निधि चौधरी यह विवादित टिप्पणी 17 मई को किया था.बाद में इस ट्विट को डिलीट करते हुए उन्होंने लिखा की

"17 मई के अपने ट्वीट को मैंने डिलीट कर दिया, क्योंकि कुछ लोग इसे गलत समझ गए. अगर वो 2011 से मेरे टाइमलाइन को फॉलो किए हुए होते तो वे समझते कि मैं गांधी जी का अनादर करने की सोच भी नहीं सकती हूं, मैं उनके सामने पूरी श्रद्धा से सिर नवाती हूं और अपनी आखिरी सांस तक ऐसा करती रहूंगी."

इस विवादित टिप्पणी के लिए ट्विटर पर निधि चौधरी को काफी ट्रोल किया गया. एनसीपी ने इसे काफी आपतिजनक बताते हुए उन्हें नौकरी से सस्पेंड करने की मांग की. पार्टी की ओर से कहा गया की उन्होंने नाथूराम गोडसे को महिमामंडित किया है, इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है.



Find Us on Facebook

Trending News