विधायिका,कार्यपालिका और न्यायापालिका साथ में तालमेल बनाकर काम करेंगे, तो मुश्किलें उत्पन्न होगी, वरिष्ठ अधिवक्ता ने बता दी बड़ी वजह

 विधायिका,कार्यपालिका और न्यायापालिका साथ में तालमेल बनाकर काम करेंगे, तो मुश्किलें उत्पन्न होगी, वरिष्ठ अधिवक्ता ने बता दी बड़ी वजह

PATNA : पटना में दो दिन पहले बार काउंसिल के राष्ट्रीय सेमिनार के दौरान केंद्रीय कानून मंत्री किरण रिजिजू ने देश की न्यायपालिका को लेकर कहा था कि संविधान के तीनों अंगों  विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका में आपसी तालमेल होना बहुत जरुरी  है। ताकि कानून का लाभ हर वर्ग को सही तरीके से मिल सके। लेकिन केंद्रीय कानून मंत्री के इन बातों को लेकर अधिवक्ताओं में मतभेद है। 

वरीय अधिवक्ता और एडवोकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष योगेश चन्द्र वर्मा ने कहा कि कानून मंत्री का ये कहना सही नहीं है कि सरकार के सभी अंग आपस में ताल मेल कर कार्य करें। उन्होंने कहा कि सभी अंगों को संविधान ने शक्तियां प्रदान की है और उसी के अनुसार सभी अंगों को अपने कर्तव्य का पालन करना है। उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान ने सरकार के तीनों अंगों, विधायिका,कार्यपालिका और न्यायापालिका को अलग अलग शक्तियां और जिम्मेदारियां दी हैं।किसी को किसी के कार्य में हस्तक्षेप नहीं किया जाना है, अपनी जिम्मेदारियों को निभाना हैं।

उन्होंने कहा कि यदि सरकार के सभी अंग आपस में तालमेल करेंगे,तो उसमें उलझनें उत्पन्न हो सकती है। आपस में सामंजस्य स्थापित होना जरूरी है,सभी अंगों को जो शक्तियां और जिम्मेदारी संविधान ने दी है,उसी के तहत सभी को अपने अपने दायित्व निभाना हैं।

Find Us on Facebook

Trending News