ताड़ी को शराबबंदी में शामिल करना नीतीश सरकार की बड़ी गलती, प्राकृतिक जूस को उस कैटगरी से बाहर निकाले सरकार : मांझी

ताड़ी को शराबबंदी में शामिल करना नीतीश सरकार की बड़ी गलती, प्राकृतिक जूस को उस कैटगरी से बाहर निकाले सरकार : मांझी

PATNA : बिहार में शराबबंदी पर एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री ने बड़ा बयान दिया है। पूर्व मुख्यमंत्री ने शराबबंदी को सीएम नीतीश कुमार की जिद्द का परिणाम बताया है।  बुधवार को मीडिया से बातचीत के दौरान मांझी ने कहा कि बिहार में शराबबंदी को लेकर कि सरकार ने इसमें ताड़ी को शामिल कर सबसे बड़ी गलती की है। ताड़ी कोई शराब नहीं है, यह प्राकृतिक जूस है। जिससे कई परिवारों का गुजारा होता है। पूर्व सीएम ने कहा सरकार को चाहिये ताड़ी को शराब के कैटगरी से अलग कर दिया जाए, जिससे पिछड़े और गरीब वर्ग के लोगों को रोजगार मिल सके।

उन्होंने शराबबंदी को लेकर कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री की खासियत है कि वह जो भी सोचते हैं, उसे पूरा करने की कोशिश करते हैं। लेकिन शराबबंदी में उनसे यह बाद चूक हो गई है।

निर्वाचन आयोग के आचार संहिता 

बिहार में भाजपा द्वारा निकाय चुनाव को लेकर आचार सहिंता के दुरुपयोग पर कार्रवाई नहीं होने को लेकर भाजपा के उठाए सवाल जीतन राम मांझी ने कहा कि आचार संहिता लागू है, लेकिन निकाय चुनाव नहीं होने के बाद यह निश्चित है कि बिहार में आचार संहिंता शिथिल है। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें आचार सहिंता को लेकर यह समझना मुश्किल है कि इसके क्या आधार है।


Find Us on Facebook

Trending News