भारत से कारोबार करना है तो डॉलर में नहीं, सिर्फ रुपए में करना होगा भुगतान, RBI ने जारी की गाइडलाइन

भारत से कारोबार करना है तो डॉलर में नहीं, सिर्फ रुपए में करना होगा भुगतान, RBI ने जारी की गाइडलाइन

PATNA : ग्लोबल ट्रेड के लिए अब डॉलर पर निर्भरता घटने जा रही है, क्योंकि भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने आयात- निर्यात के लिए भारतीय रुपया को कारोबार में इस्तेमाल करने की इजाजत दे दी हैं. भारतीय रिज़र्व बैंक के इस फैसले से डॉलर की मांग बाज़ार में कम होगी. जिन देशों पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध लगा है अर्थात जो डॉलर में कारोबार नहीं कर सकते है, लेकिन भारतीय रुपया की मदद से देश का आयात- निर्यात का संबंध उन देशो के साथ अच्छा रहेगा. 

केंद्रीय बैंक आरबीआई (Reserve Bank of India) इंटरनेशनल ट्रेड सेटलमेंट के लिए एक नई व्यवस्था लेकर आया है. इस नई व्यवस्था के तहत केंद्रीय बैंक (Reserve Bank of India) सोमवार को देश के अन्य बैंकों को दिशा निर्देश जारी किए हैं.

भारतीय कारोबारियों को मिलेगा फायदा 

आरबीआई के इस फैसले से सबसे ज्यादा फायदा भारतीय कारोबारियों को मिलेगा. अभी तक ग्लोबल ट्रेड डॉलर में ही होता था. हालाँकि नए व्यवस्था के आने से कारोबारियों का डॉलर पर निर्भरता काफी कम हो जाएगा. कारोबारी अब बिजनेस डील को भारतीय मुद्रा रुपया में कर पाएंगे. जिससे वे अधिक सक्षम बनेंगे. वहीं दूसरी ओर लगातार कमजोर होते हुए रुपये को भी मजबूत होने में मदद मिलेगी. 

सकारात्मक होगा असर

FIEO के प्रेसिडेंट ए. शक्तिवेल के अनुसार पहली बार दुनिया के किसी भी देश के साथ भारतीय रुपये में कारोबार करने की इजाजत दी गई है. अभी तक ईरान जैसे एकाध देश के साथ इस तरह की व्यवस्था थी. नई अधिसूचना से रूस समेत किसी भी देश के साथ भारतीय निर्यातक अब रुपये में कारोबार कर सकेंगे. इसका सकारात्मक असर होगा. 

रुपये के अंतरराष्ट्रीयकरण की दिशा में बड़ा कदम

फियो के सीईओ ओर महानिदेशक अजय सहाय ने कहा कि यह भारतीय रुपये के अंतरराष्ट्रीयकरण की दिशा में बड़ा कदम साबित होगा. इससे हमारे रुपए को भी मजबूती मिलेगी.अभी कई देशों के पास डॉलर का भंडार नहीं है, ऐसे देश भारत के साथ रुपये में ही कारोबार करेंगे. इससे रूस के साथ कारोबार को बढ़ाने का भी माहौल बनेगा


Find Us on Facebook

Trending News