बिहार NDA में 3 मार्च के बाद होगा सीटों का फाइनल बंटवारा, अब भी कई सीटों पर जिच कायम

PATNA : बिहार एनडीए के घटक दलों में  भले हीं सीटों की संख्या का एलान हो गया हो,लेकिन कौन पार्टी किस सीट पर लड़ेगी इसकी घोषणा 3 मार्च के बाद ही होगी। पीएम मोदी 3 मार्च को पटना में रैली करने वाले हैं। रैली के बाद ही बिहार एनडीए सीटों को लेकर फाइनल घोषणा करेगी। बिहार बीजेपी के नेता यह मान कर चल रहे हैं कि अब 3 मार्च के बाद हीं सीटों का ऐलान होगा।

हालांकि अंदुरुनी तौर पर बीजेपी-जेडीयू ने अधिकांश सीटों का चयन कर लिया है, लेकिन कुछ सीटों को लेकर पेंच अब भी बरकरार है। जदयू से अधिक लोजपा की सीटिंग सीट को लेकर जिच है। जबकि एनडीए के नेता यह दावा कर रहे हैं कि सीट चयन को लेकर कोई परेशानी नहीं है। अगर कुछ है भी तो समय से पहले सुलझा लिया जाएगा। 

लोजपा की सीटिंग सीट खगड़िया पर बीजेपी की नजर है। भाजपा वहां से अपने कुशवाहा समाज के नेता सम्राट चौधरी को लड़वाना चाहती है, इसको लेकर फिल्डिंग भी शुरू है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने तो एक कार्यक्रम में कहा भी था कि पार्टी सम्राट चौधरी के लिए कुछ करने वाली है। हालांकि उन्होनें यह खुलासा नहीं किया था कि उन्हें किस तरह की जिम्मेदारी देंगे। इस सीट पर वर्तमान में लोजपा के सांसद महबूब अली कैसर हैं। अगर लोजपा की यह सीटिंग सीट बीजेपी के खाते मे गयी तो फिर लोजपा को दूसरी सीट मिलेगी। 

लोजपा के खाते की दूसरी सीट मुंगेर है जिस पर जदयू ने तैयारी शुरू कर दी है। पार्टी सुप्रीमो रामविलास पासवान इसके बदले में नवादा सीट चाहते हैं, जबकि नवादा बीजेपी की सीटिंग सीट है और वहां से गिरिराज सिंह सांसद हैं। वैशाली सीट को लेकर भी अभी संशय बरकरार है। वही हाल पटना साहिब और पाटलिपुत्रा लोकसभा सीट को लेकर है। इन दो सीटों को लेकर भी अबतक जदयू-बीजेपी के बीच बात नहीं बन पायी है। कुछ सीटों का पेंच नहीं सुलझने की वजह से हीं तीनों दलों के भीतर सीट बंटवारे को लेकर समय सीमा बढ़ते जा रही है।

बता दें कि एनडीए के तीनों घटक दलों ने सीटों की संख्या का बंटवारा तो काफी पहले कर लिया था। इसके तहत बीजेपी-जदयू को 17-17 सीटें और लोजपा को 6 सीटें मिली थीं। हालांकि तब बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सीएम नीतीश की मौजूदगी में कहा था कि बहुत जल्द सीटों के चयन का काम पूरा कर उसका भी एलान हो जाएगा।लेकिन अबतक सीटों के चयन को लेकर एनडीए के भीतर आम सहमति नहीं बन पाई है।

विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News