पंचायत चुनाव में बायोमेट्रिक मशीन से लगेगी वोटरों की हाजिरी, पहली बार होगा इस तकनीक का प्रयोग

पंचायत चुनाव में बायोमेट्रिक मशीन से लगेगी वोटरों की हाजिरी, पहली बार होगा इस तकनीक का प्रयोग

PATNA : बिहार में पंचायत चुनाव को लेकर हर दिन नई खबरें सामने आती है। बिहार निर्वाचन आयोग चुनाव को पूरी तरह से पारदर्शी बनाने के लिए कोई कमी नहीं रखना चाहती है। यही कारण है कि अब निर्वाचन आयोग पंचायत चुनाव में ऐसा प्रयोग करने जा रही है, जो अब तक किसी चुनाव में नहीं हुआ है। निर्वाचन आयोग पंचायत चुनाव-2021 में पहली बार बूथों पर मतदाताओं की हाजिरी बनाने के लिए बायोमेट्रिक मशीन करने जा रही है। चुनाव में  हर बूथ पर एक बायोमेट्रिक मशीन लगायी जायेगी. इससे वोटिंग करने के लिए आनेवाले हर वोटर की इसके माध्यम से पहचान सुनिश्चित की जायेगी.

राज्य सरकार ने दी मंजूरी

राज्य निर्वाचन आयोग ने राज्य सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद पंचायत चुनाव में इवीएम मशीन के साथ ही बायोमेट्रिक मशीन लगाने की दिशा में पहल शुरू कर दी है. अब राज्य के एक लाख 10 हजार बूथों में बायोमेट्रिक मशीन लगायी जायेगी. आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि बूथ पर स्थापित की जानेवाली बायोमेट्रिक मशीन के साथ पांच प्रकार से जांच की जायेगी. 

इस तरह से करेंगे फिंगर प्रिंट मशीन का इस्तेमाल

पहले वोट देने आनेवाले हर मतदाता का फिंगरप्रिंट लिया जायेगा. इसके अलावा हर मतदाता की फेस रीडिंग की जायेगी व उसका इपिक लिया जायेगा. मतदान के पहले इसको सॉफ्टवेयर में अपलोड कर दिया जायेगा. ऐसे में बोगस मतदान के लिए आनेवाले वोटरों की आसानी से पहचान हो जायेगी. सरकार ने राज्य निर्वाचन आयोग को इसके लेकर पहल शुरू करने का ग्रीन सिग्नल दिखा दिया है. 

राज्य में मुखिया, वार्ड सदस्य, सरपंच, पंच, पंचायत समिति सदस्य और जिला पर्षद सदस्य के करीब ढाई लाख पदों के लिए मतदान कराया जाना है. बायोमेट्रिक के आने से हर बूथ पर पारदर्शी चुनाव संभव होगा. जिसके लिए आगामी माह से चुनावी प्रक्रिया शुरू होने की संभावना जताई जा रही है। बता दें कि बिहार पंचायत चुनाव में पहली बार ईवीएम का भी प्रयोग किया जा रहा है। इसके अलावा निर्वाचन आयोग ने एक और नया प्रयोग करने का फैसला लिया है। जिसमें मतदान के अगले दिन परिणाम जारी कर दिया जाएगा और उसके बाद उस ईवीएम का प्रयोग अगले चरण के चुनाव में किया जाएगा।



Find Us on Facebook

Trending News