श्रीलंका में महंगाई से आम जन जीवन बेहाल, चावल 450 तो आलू 220 प्रति किलो खरीद रहे लोग

श्रीलंका में महंगाई से आम जन जीवन बेहाल, चावल 450 तो आलू 220 प्रति किलो खरीद रहे लोग

DESK : भारत का पड़ोसी देश श्रीलंका अपनी आजादी के बाद से सबसे बड़े राजनीतिक व आर्थिक संकट से गुजर रहा है। श्रीलंका के राजनीतिक संकट की सबसे बड़ी वजह वहां की सरकार की आर्थिक नीतियां हैं। सरकार के गलत निर्णयों का ही परिणाम है कि देश में खाने-पीने और राशन की सामान्य वस्तुयों को महंगाई ने अपने चपेट में ले लिया है। 

श्रीलंका में अस्थिरता का माहौल

लोगों के लिए खाना-पीना भी मुश्किल हो गया, नतीजा-सरकार के प्रति विरोध बढ़ता गया और अब वहां अस्थिरता का माहौल है. देश में जनता की बगावत के बीच श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे ने इस्तीफा दे दिया है. वहीं,प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे पहले ही इस्तीफा सौंप चुके हैं. इस बीच हजारों लोगों की भीड़ ने पिछले कई दिनों से राष्ट्रपति भवन और प्रधानमंत्री आवास पर कब्जा जमा रखा था, सड़कों पर सेना तैनात है और पीएम-राष्ट्रपति समेत तमाम बड़े नेता अंडरग्राउंड हो गए हैं। वहीं, खाने-पीने की जरूरी चीजों के दाम आसमान पर पहुंच गए हैं। आपको जान कर हैरानी होगी जब एक बार आप यहां मिल रहे चावल, नारियल तेल और राजमा जैसी कई सामान्य चीजों की कीमत जान लेंगे।

 हालात होते जा रहे बदतर 

 श्रीलंका की राजधानी कोलंबो के Market के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, देश  में अनाज की कीमतों में आग लगी हुई है. देश में अभी टमाटर के भाव 150 रुपये किलो श्रीलंकाई रुपये पर पहुंच गए हैं। वहीं, मूली का भाव लगभग 500 रुपये प्रति किलो हो चुका है। चावल का एक्सपोर्ट करने वाला श्रीलंका अभी इसे आयात कर रहा है और जिसकी कीमत 450 रुपये से लेकर 700 रुपये के बीच है। आलू-प्याज जैसी सामान्य इस्तेमाल की सब्जी की कीमत 220 रुपये किलो हो चुकी है, तो लहसुन भी 170 रुपये में सिर्फ 250 ग्राम ही मिल रहा है। नारियल और नारियल तेल के सबसे बड़े उत्पादक देशों में से एक श्रीलंका में इन दिनों नारियल की कीमत 85 से 100 रुपये प्रति नग पर पहुंच गई है। 

जबकि नारियल तेल 600 रुपये से 1000 रुपये प्रति लीटर के बीच मिल रहा है। यहां राजमा 925 रुपये प्रति किलो तक, और मसूर की दाल 500 से लेकर 600 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई है। काबुली चना भी महंगा हो गया है। इसका भाव 800 रुपये प्रति किलो तक हो गया है। संकट की स्थिति में यहां मटर और चने जैसी दालों के भाव चढ़े हुए हैं। मटर की दाल 500 रुपये प्रति किलो की मिल रही है, तो चना दाल की कीमत भी 500 प्रति किलो से ज्यादा है। मूंग दाल अब श्रीलंका में आम आदमी की रसोई से बाहर जा चुकी है। ये यहां 1,240 प्रति किलो की दर से बिक रही है। आलू, प्याज और टमाटर जैसी आम इस्तेमाल की सब्जियों के दाम बढ़ने से श्रीलंका के लोगों की परेशानियां भी बढ़ गई हैं। 

मिली जानकारी के मुताबिक श्रीलंका में लाखों परिवार भोजन की कमी को देखते हुए बस अब एक वक्त का ही खाना खा रहे हैं। सब्जियों के दाम में ऐसे समय आग लगी है, जब पहले से ही श्रीलंका में डीजल-पेट्रोल की कमी हो चुकी है और लोगों को बेतहाशा पावर कट का सामना करना पड़ रहा है। राजनैतिक उलट फेर के बाद भी श्रीलंका के हालात पटरी पर आती नहीं दिख रही है. आम जनता बेहाल है, न नौकरी है, न खाने के लिए पैसे है.


Find Us on Facebook

Trending News