शराब पीने पर कस्टडी में पुलिस ने इतना मारा कि युवक की तोड़ दी पैर की हड्डी, परिजनों ने कहा - झूठे आरोप में फंसाया

शराब पीने पर कस्टडी में पुलिस ने इतना मारा कि युवक की तोड़ दी पैर की हड्डी, परिजनों ने कहा - झूठे आरोप में फंसाया

PATNA : सरकार ने शराब पीनेवालों को पकड़कर जेल भेजने का निर्देश दिया है। लेकिन, पटना की पुलिस अब शराबियों को जेल भेजने की जगह अस्पताल या दुनिया से ही भेजने की कोशिश में लगी हुई है। ऐसा ही एक मामला दीघा से सामने आया है। जहां पुलिन ने पेशे से शव को जलाने का काम करनेवाले युवक को शराब पीने के आरोप में घर से जबरन घसीटते हुए ले गई और उसके बाद हाजत में इतना मारा कि उसकी हालत खराब हो गई और उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ गया। पुलिस ने युवक  का पैर भी तोड़ दिया है।

मामले में बताया गया घायल का नाम जितेंद्र कुमार बताया गया है। अस्पताल में भर्ती जितेंद्र ने बताया कि उसका परिवार कि दीघा थाना क्षेत्र के गेट नम्बर 87 मखदुमपुर में रहता है। जहां पानी बहाने को लेकर विवाद हुआ था। जिसकी सूचना पर पहुंची पुलिस उसे घर से घसीटते हुए घर से ले गई और थाने में रस्सी से बांधकर उसकी बुरी तरह से पिटाई की गई जिसमें उसके पैर टूट गए।

पत्नी और बच्चों से की धक्का-मुक्की

वहीं जितेंद्र की पत्नी का कहना था  कि कि पुलिस जितेंद्र को गिरफ्तार करने के दौरान उसके साथ और उसके बच्चों के साथ भी धक्का-मुक्की और मारपीट की है हालांकि दीघा थाने में पिटाई के बाद जितेंद्र की तबीयत ज्यादा खराब हो गई जिससे आनन-फानन में परिजनों को सूचना देते हुए पुलिसकर्मियों ने पटना के राजवंशी नगर स्थित सरकारी अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती करवाया है जहां उसके टूटे पैर और चोटों का इलाज करवाया जा रहा है

पिटाई की जरुरत  क्यों

अब सवाल यह है कि जब पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर ही लिया था और उसकी कोरोना जांच भी हो गई थी तो उसकी कोर्ट में पेश करने की जगह बेरहमी से पिटाई करने की जरुरत क्यों पड़ी, जिससे न सिर्फ युवक की पैर की हड्डी टूट गई, बल्कि खुद भी इस पिटाई के कारण मुसीबत में घिर गए हैं।


Find Us on Facebook

Trending News