लोकतंत्र के इस महापर्व में उम्र पर भारी पड़ रहा जज्बा, पोते की गोद में वोट डालने पहुंचे 95 वर्षीय रामश्रेष्ट राय

लोकतंत्र के इस महापर्व में उम्र पर भारी पड़ रहा जज्बा, पोते की गोद में वोट डालने पहुंचे 95 वर्षीय रामश्रेष्ट राय

BEGUSARAI : लोकतंत्र के इस महापर्व में उम्र पर जज्बा भारी पड़ता दिख रहा है। नवजवान की कौन कहे चलने-फिरने में असमर्थ और उम्र के अंतिम पड़ाव पर पहुंच चुके बुजुर्ग और वृद्ध मतदान में बढ़-चढ़ हिस्सा ले रहे है। 

अपने वोट के प्रति बुजुर्ग कितने जागरुक है, इसका एक उदाहरण बेगूसराय के बछवाड़ा विधान सभा क्षेत्र स्थित बूथ संख्या 84 पर देखने को मिला। यहां एक वृद्ध अपने वोट का प्रयोग करने पहुंचे। उनका पोता गोद में उठाकर वोट डलवाने लाया था। 

पोते की गोद में वोट डालने पहुंचे 95 वर्षीय रामश्रेष्ठ राय ने कहा कि कि वोट हमारा अधिकार है, मैं हर चुनाव में मतदान के लिए आता हूं। अधिक से अधिक मतदाताओं को अपने घरों से बाहर निकाला चाहिए और मतदान केंद्र में आकर अपने मत का उपयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं अब चल नहीं सकता। घर के अंदर बिस्तर पर ही लेटा रहता हूं, रात को ही मैंने अपने परिवार के सदस्यों को बोल दिया था कि सुबह सुबह मुझे मतदान केंद्र में ले जाए ताकि मैं अपना वोट डाल सकूं।

Find Us on Facebook

Trending News