स्पेशल रिपोर्टः 20 सालों में 20 गुणा की बढ़ोतरीः देश के 2722 पूर्व सांसदों को मिल रहा पेंशनः पिछले साल करीब 99 करोड़ की खर्च हुई राशि

स्पेशल रिपोर्टः 20 सालों में 20 गुणा की बढ़ोतरीः देश के 2722 पूर्व सांसदों को मिल रहा पेंशनः पिछले साल करीब 99 करोड़ की खर्च हुई राशि

PATNA: भारत में 2722 पूर्व सांसदों को सरकार पेंशन दे रही है। पिछले वित्तीय वर्ष में कुल 992209 हजार यानी 99.22 करोड़ रू से अधिक सिर्फ पेंशन मद में खर्च हो रहा। 2000 से 2020 आते-आते सांसदों के पेंशन मद में करीब 20 गुणा की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। सूचना के अधिकार के तहत वित्त मंत्रालय ने यह जानकारी दी है। 

वित्त मंत्रालय ने 27 जुलाई 2021 को दी जानकारी

वित्त मंत्रालय ने सूचना के अधिकार के तहत दिए जवाब में बताया है कि वर्तमान में लोकसभा के 1981 व राज्यसभा के 741 भूतपूर्व सदस्य पेंशन प्राप्त कर रहे हैं. पत्र में यह भी बताया गया है कि लोकसभा-राज्यसभा के पूर्व सदस्यों के आश्रितों का अलग से कोई वर्ग नहीं है. पेंशनभोगी, पारिवारिक पेंशन भोगी सभी मिश्रित हैं. भारत सरकार के वित्त मंत्रालय (व्यय विभाग) केंद्रीय पेंशन लेखा कार्यालय की तरफ से यह जानकारी 27 जुलाई को आरटीआई एक्टिविस्ट शिव प्रकाश राय को दी गई है.


20 सालों में 20 गुणा की बढ़ोतरी

आरटीआई एक्टिविस्ट शिव प्रकाश राय ने 2000-01 से लेकर 2020- 21 तक पूर्व सांसदों और उनके आश्रितों के पेंशन मद में कितनी राशि खर्च हुई इसकी जानकारी मांगी थी. जो जानकारी निकल कर सामने आ रही है उसमें 20 सालों में पेंशन मद में करीब 20 गुणा की बढ़ोतरी हुई है. 2000-01 वित्तीय वर्ष में जहां सरकार ने 46833 हजार रुपए पेंशन पर खर्च किये। वहीं 2001-2002 में 32102 हजार रु पेंशन मद में दिया गया। 2002-03 में 47600 हजार, 2003-04 में 73492 हजार, 2004-05 में 104993 हजार रुपए की राशि पेंशन मद में खर्च हुई। वही 2019-2020 में पेंशन मद की यह राशि बढ़कर 705100 हजार पर पहुंच गई। जबकि लास्ट विच्चीय वर्ष 2020-2021 में 992209 हजार रुपए पर पहुंच गया। 

जानें हर साल पेंशन मद में कितनी राशि ले रहे पूर्व सांसद

Find Us on Facebook

Trending News