बढ़ी चिंताः NMCH में बवाल के बाद जूनियर डॉक्टरों ने किया स्ट्राइक, कोरोना मरीजों की बढ़ी परेशानी

बढ़ी चिंताः NMCH में बवाल के बाद जूनियर डॉक्टरों ने किया स्ट्राइक, कोरोना मरीजों की बढ़ी परेशानी

PATNA: नालंदा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल के सर्जरी वार्ड में एक मरीज की मौत के बाद बीती रात जमकर हंगामा तोड़-फोड़ किया गया था। आक्रोशित परिजनों ने अस्पताल के सर्जरी वार्ड के बाहर कई सामानों को क्षतिग्रस्त कर दिया। इसके बाद डॉक्टरों के साथ गाली-गलौज करने लगे। हालात ऐसे हो गए कि ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टरों ने अपनी जान बचाने के लिए खुद को कमरे के अंदर बंद कर लिया।गुस्साए लोगों ने कमरे दरवाजा खोलने की कोशिश की लेकिन डॉक्टरों ने डर से कमरे का दरवाजा नहीं खोला। जिस समय यह घटना हुई उस समय कोई भी पुलिसकर्मी मौजूद नही था। इस घटना के बाद डॉक्टरों में आक्रोश है। डॉक्टर का आरोप है कि घटना के समय पुलिस से कई बार मदद की गुहार लगाई, लेकिन पुलिस समय पर नहीं आई। एनएमसीएच में पिछले पांच दिनों में तीन बार हंगामा- तोड़फोड़ और डॉक्टरों से मारपीट के बाद जूनियर डॉक्टरों ने कम ठप कर दिया है। 

जूनियर डॉक्टरों ने कहा है कि जब तक हमारी मांग पूरी नहीं हो जाती तब तक वे लोद काम पर वापस नहीं लौटेंगे। संघ ने सरकार से पांच सूत्री मांग रखा है और कहा कि जब तक सरकार डॉक्टरों की सुरक्षा नहीं देगी तब तक काम करना संभव नहीं है। एनएमसीएच में स्टॉफ और डॉक्टरों की काफी कमी है।एमबीबीएस परीक्षा स्थगित करने के कारण 150 इंटर्न की कमी हो गई है। ऐसे में एनएमसीएच में 150 जेआर को तत्काल नियुक्त करें. अन्य मेडिकल कॉलेजों और अस्पतालों में कोविड बेड की संख्या बढ़ाना। मरीजों की उचित देखभाल के लिए वार्डों के अंदर परिचारकों का प्रवेश और वार्ड बॉय की संख्या बढ़ाना। नर्सों की संख्या बढ़ाना . अस्पताल परिसर के अंदर अर्धसैनिक बल तैनात करना।बीती रात सुरक्षा चूक के लिए संबंधित व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई करें।

Find Us on Facebook

Trending News