पैगंबर मोहम्मद पर अभद्र टिप्पणी व बुलडोजर राज के खिलाफ गया में निकला प्रतिवाद मार्च, कई संगठनों ने लिया हिस्सा

पैगंबर मोहम्मद पर अभद्र टिप्पणी व बुलडोजर राज के खिलाफ गया में निकला प्रतिवाद मार्च, कई संगठनों ने लिया हिस्सा

GAYA : भाजपा प्रवक्ताओं द्वारा पैगंबर मोहम्मद पर की गई अभद्र टिप्पणी, भाजपा-आरएसएस द्वारा मुस्लिमों के खिलाफ घृणा-नफरत व संगठित हमले तथा देश को फासीवादी बुलडोजर राज में धकेलने के खिलाफ आज गया में नागरिक मार्च का आयोजन किया गया। यह मार्च अंबेडकर पार्क से निकलकर जी बी रोड होते हुए टावर चौक तक गया और फिर वहां पर एक सभा का आयोजन हुआ। मार्च में छात्र संगठन आइसा, युवा संगठन इंकलाबी नौजवान सभा, महिला संगठन ऐपवा, एआइपीएफ, जसम आदि संगठनों से जुड़े कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। नागरिक मार्च के दौरान आफरीन फातिमा के घर पर बुलडोजर क्यों-जवाब दो, न्यायतंत्र पर बुलडोजर राज नहीं चलेगा, संविधान-लोकतंत्र को बुलडोज करना बंद करो, मुस्लिम युवकों पर हमले क्यों-जवाब दो, नागरिकता आंदोलन के कार्यकर्ताओं की प्रताड़ना बंद करो, सांप्रदायिक जहर उगलने वाली नुपूर शर्मा व नवीन कुमार जिंदल को गिरफ्तार करो-सजा दो, रांची पुलिस फायरिंग के दोषियों को गिरफ्तार करो आदि नारे लगा रहे थे।

इंकलाबी नौजवान सभा राज्य उपाध्यक्ष तारिक अनवर ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि देश आज एक बेहद कठिन दौर से गुजर रहा है। पूरे भारत व दुनिया में पैगंबर मोहम्मद पर भाजपा प्रवक्ताओं नुपूर शर्मा व नवीन कुमार जिंदल द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी के कारण हंगामा जारी है। जब दुनिया भर में इसका प्रतिवाद शुरू हुआ, चौतरफा आलोचना होने लगी, भारत के राजदूतों को फटकार लगाई गई, खाड़ी देशों से आर्थिक आमदनी बाधित होने की आशंका पैदा होने लगी, तब उन देशों को खुश करने के लिए भाजपा नेताओं ने कहा कि नुपूर शर्मा व नवीन कुमार जिंदल जैसे लोग फ्रिंज एलीमेंट हैं। उन्हें गंभीरता से नहीं लेना चाहिए। लेकिन हम जानते हैं कि यह सरकार झूठ बोल रही है। ये लोग फ्रिंज नहीं भाजपा के कोर हैं। इसलिए सरकार सबसे पहले हिंदुस्तान की जनता को जवाब दे और ऐसे जहर फैलाने वाले लोगों को तत्काल गिरफ्तार करके उनके खिलाफ कानून सम्मत कार्रवाई करे। आइसा नेता सोनू कुशवाहा ने कहा की पैगंबर मोहम्मद पर की गई अभद्र टिप्पणी केवल इस्लाम या मुसलमानों के खिलाफ नहीं बल्कि यह भारत की गंगा-जमुनी तहजीब, उसकी बुनियाद और हमारे संविधान पर चोट है। यह हमेशा याद रखना चाहिए कि हमारा संविधान सभी धर्माें के बीच समन्वय की बात करता है।

ऐपवा नेत्री विभा भारती ने कहा की आज उक्त घटना के खिलाफ पूरे देश में प्रतिवाद हो रहा है। लेकिन उसके प्रति सरकार का क्या रवैया है? झारखंड में भाजपा की सरकार नहीं है। लेकिन पुलिस पूरी तरह से भाजपा के कब्जे में है। दो मुस्लिम युवकों की गोली मारकर हत्या कर दी गई। यूपी में जहां खुद भाजपा है, इलाहाबाद के प्रतिष्ठित सीएए विरोधी आंदोलन के नेता के घर को बुलडोज कर दिया गया। पूरे देश में मुस्लिम घरों को निशाना बनाया जा रहा है। आज देश में यह माहौल बनाया जा रहा है कि बोलोगे तो गोली से उड़ा देंगे। विरोध करोगे तो बुलडोजर से ढाह देंगे और यदि बच गए तो जेल में सड़ा देंगे। यह फासीवाद नहीं तो और क्या है? इसलिए आज इस खतरे को पहचानते हुए देश के प्रत्येक नागरिक को उठ खड़ा होना होगा और इसे संविधान व देश पर चोट समझते हुए निर्णायक लड़ाई के लिए कमर कस लेनी होगी। मोदी सरकार के 8 वर्ष हो गए। एक तरफ चरम महंगाई है, बेरोजगारी है और दूसरी ओर पूरे देश में सांप्रदायिक हमलों का विस्तार है। रोजगार को लेकर देश का छात्र युवा सड़कों पर है। पूरे देश के अंदर सांप्रदायिकता को फैलाने का काम किया जा रहा है। युवाओं को रोजगार के बदले नफरत दिया जा रहा है। कार्यक्रम में आरवाईए राज्य परिषद सदस्य रवि कुमार, रामचंद्र प्रसाद, शंभू राम, कामता प्रसाद बिंद, मो नेहाल, रघुनंदन प्रसाद, पुनदेव मांझी,आनंद कुमार, अशोक मांझी, टिंकू कुशवाहा, ओमकार कुशवाहा सहित बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल थीं।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News