अंडर-19 विश्व कप में भारत बना चैंपियन : बाना के छक्के ने दिला दी धोनी की याद

अंडर-19 विश्व कप में भारत बना चैंपियन : बाना के छक्के ने दिला दी धोनी की याद

DESK : भारत की युवा ब्रिगेड ने एंटीगा में इतिहास रच दिया है। भारतीय टीम ने U-19 वर्ल्ड कप 2022 के फाइनल में दमदार खेल दिखाते हुए इंग्लैंड को 4 विकेट से रौंदकर रिकॉर्ड पांचवीं बार खिताब पर कब्जा जमाया। यंगिस्तान ने जीत के लिए मिले 190 रन के टारगेट को 47.4 ओवर में 6 विकेट खोकर पार कर लिया। इसके साथ ही भारतीय युवा टीम ने बता दिया कि आनेवाला कल उनका है।

इससे पहले  भारत ने सर विवियन रिचर्ड्स स्टेडियम में फाइनल मुकाबले में टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए इंग्लैंड की टीम 44.5 ओर में 189 रन के स्कोर पर ऑलआउट हो गई। इंग्लैंड की शुरुआत खराब रही और दूसरे ही ओवर में रवि कुमार ने जैकब बेथेल (2) को LBW आउट किया। अपने अगले ही ओवर में रवि ने कप्तान टॉम प्रेस्ट (0) को क्लीन बोल्ड कर भारत को दूसरी सफलता दिलाई। जॉर्ज थॉमस (27) के स्कोर पर राज बावा की गेंद पर आउट हुए। भारत को चौथी सफलती भी राज बावा ने ही दिलाई। उन्होंने विलियम लक्सटन (4) को विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश बाना के हाथों कैच कराया। बावा ने इसकी अगली ही गेंद पर जॉर्ज बेल (0) को भी पवेलियन चलता कर दिया। दो ओवर बाद बावा ने रेयान अहमद (10) को स्लिप में कैच करवाकर भारत को छठी कामयाबी दिलाई। कौशल ताबें ने एलेक्स हॉर्टन (10) को कप्तान यश धुल के हाथों कैच काराया। जेम्स रेव ने सबसे ज्यादा 95 रन बनाए। 

दो गेंदबाजों ने झटके नौ विकेट

भारत की ओर से ऑलराउंडर राज बावा भारत की जीत के हीरो रहे। उन्होंने पहले 31 रन देकर पांच विकेट लिए। राज बावा के अलावा रवि कुमार ने भी बेहतरीन गेंदबाजी की। उन्होंने चार विकेट लिए। कौशल तांबे को 1 सफलता मिली। 

इसके बाद बल्लेबाजी में भी कमाल दिखाते हुए 35 रन की पारी खेली। उपकप्तान शेख रशीद ने भी 50 रनों की बेहतरीन पारी खेली। भारत के सामने जीत के लिए 190 रनों का टारगेट था। लेकिन टीम ने दूसरी बॉल पर ही पहला विकेट खो दिया। हालांकि इसके बाद हरनूर सिंह और शेख रशीद ने साझेदारी की। लेकिन फिर ने टीम ने 95 और 97 के स्कोर पर लगातार दो गंवा दिए। इसके बाद निशांत सिंधू, राज बावा और फिर दिनेश बाना के शानदार प्रदर्शन के दम पर टीम इंडिया ने सबसे ज्यादा बार यह खिताब अपने नाम कर लिया। भारत के लिए निशांत सिंधु और शेक रशीद ने अर्धशतक जड़े और इसी के दम पर भारत की टीम ने 190 रन का लक्ष्य 47.5 ओवर में 6 विकेट खोकर हासिल कर लिया और मैच 4 विकेट से जीत लिया।

दिनेश बाना के छक्के ने दिलाई 2011 की याद

जिस तरह 2011 के विश्व कप में धोनी ने छक्का मारकर भारत को यादगार जीत दिलाई थी. उस छक्के की याद एक बार फिर से ताजा हो गई। जब जीत के अंतिम रन बनाने के लिए दिनेश बाना ने उसी अंदाज में शानदार छक्का लगाया। जिसके बाद पूरी भारतीय टीम मैदान में दौड़ पड़ी।


Find Us on Facebook

Trending News