'निर्दोष' लाखों युवाओं के भविष्य से खेलने का कर चुका है गुनाह, पुलिस के सामने किया सरेंडर

'निर्दोष' लाखों युवाओं के भविष्य से खेलने का कर चुका है गुनाह, पुलिस के सामने किया सरेंडर

DESK : पिछले माह स्थगित UP Tet पेपर लीक मामले के मुख्य आरोपी ने सरेंडर कर दिया है। मुख्य आरोपी का नाम निर्दोष चौधरी है। लेकिन उसके काम उसके नाम के ठीक विपरीत है। अलीगढ़ में प्राइमरी का टीचर के रूप में काम करनेवाले निर्दोष चौधरी पर आरोप है कि उसने ही शामली में मेरठ के सॉल्वर गैंग को 5 लाख में पेपर बेचा था. उसका भाई यूपी पुलिस में सिपाही है. UPSTF निर्दोष चौधरी को रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी.

बताया गया कि निर्दोष चौधरी ने ही शामली में मेरठ के सॉल्वर गैंग को 5 लाख में पेपर बेचा था. निर्दोष अलीगढ़ में प्राइमरी का टीचर है. निर्दोष चौधरी के अलावा अब तक इस मामले में एसटीएफ ने लखनऊ से टीईटी परीक्षा कराने वाले परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय और पेपर छापने वाली आरएसएम कंपनी का मालिक राय अनूप प्रसाद को भी गिरफ्तार किया। . अब तक इस मामले में 30 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. 

यूपी में 28 नवंबर को UP TET परीक्षा आयोजित की गई थी. इस परीक्षा का आयोजन पीएनपी ने कराया था. संजय उपाध्याय को परीक्षा नियामक प्राधिकारी बनाया गया था. संजय उपाध्याय पर ही इस परीक्षा के आयोजन की जिम्मेदारी थी. सरकार ने पेपर लीक होने के मामले को उनकी बड़ी चूक माना था और मुख्यमंत्री के निर्देशों पर मंगलवार को संजय उपाध्याय को निलंबित किया गया था। इसके अलावा जांच में यह बात भी सामने आई थी जिस कंपनी को पेपर छापने का काम दिया गया था, वहीं से पेपर को लीक कराया गया था। बताया गया कि आरएसएम फिनसर्व प्राइवेट लिमिटेड को ही सचिव संजय उपाध्याय ने टीईटी के पेपर छापने का 13 करोड़ रुपये में ठेका दिया था

13 लाख से ज्यादा परीक्षार्थी थे टीईटी परीक्षा के

बता दें बीते 28 नवबंर को यूपी टीईटी परीक्षा आयोजित की गई थी, लेकिन परीक्षा के कुछ मिनट पहले ही इसके पेपर लीक कर दिए गए। जिसके कारण यूपी सरकार ने तत्काल परीक्षा स्थगित कर दिया था।

Find Us on Facebook

Trending News