छापेमारी की आड़ में कारोबारी के घर पुलिसकर्मियों ने डाला डाका, लूट ले गए 1.85 करोड़ रुपये

छापेमारी की आड़ में कारोबारी के घर पुलिसकर्मियों ने डाला डाका, लूट ले गए 1.85 करोड़ रुपये

NEWS4NATION DESK : उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से एक बड़ी खबर सामने आई है, जहां पुलिस ने ही डकैती की बड़ी घटना को अंजाम दिया है। छापेमारी की आड़ में एक फ्लैट में घुसकर दो दारोगा अपने साथ साथियों के साथ हथियार के बल पर एक कारोबारी के घर से तकरीबन 1.85 करोड़ रुपये ले उड़े। इस मामले में आरोपी दोनो दरोगा को निलंबित कर दिया गया है। 

घटना के संबंध में बताया गया है कि जिले गोसाईगंज थाने के दरोगा ने शनिवार को छापेमारी की आड़ में एक फ्लैट में घुसकर कारोबारी के 1.85 करोड़ रुपये पर डाका डाल दिया। बंदूक के दम पर हुई यह वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। जानकारी मिलने पर एसएसपी कलानिधि नैथानी ने दो दरोगा, उनके मुखबिर और चार अज्ञात साथियों के खिलाफ बंधक बनाकर डकैती की रिपोर्ट दर्ज करवाई। दोनों दरोगा को निलंबित कर पूछताछ की जा रही है। फ्लैट से रुपये से भरा बैग लेकर निकले मुखबिर और अज्ञात सहयोगियों की तलाश हो रही है।

ब्लैकमनी पकड़ने के बहाने घर में घुसे दोनों दरोगा

पुलिस ने बताया कि गोसाईंगंज थाने के दरोगा आशीष तिवारी, पुलिस लाइंस में तैनात एसआई पवन मिश्रा, मुखबिर मधुकर मिश्रा चार अन्य लोगों के साथ शनिवार सुबह सरसवां स्थित ओमेक्स सिटी के फ्लैट नंबर 104 में कालाधन पकड़ने के लिए छापेमारी के बहाने घुस गए।
 
 इन लोगों ने वहां मौजूद खनन कारोबारी सुलतानपुर निवासी अंकित अग्रहरि, अश्वनी पांडेय, बल्दीखेड़ा गोसाईंगंज के अभिषेक वर्मा, अमेठी के अभिषेक सिंह, ग्वालियर के जितेंद्र तोमर, सचिन, रुदौली के कुलदीप और शुभम गुप्ता को गन पॉइंट पर ले लिया। तलाशी लेने पर फ्लैट में रुपये से भरे दो बक्से और एक अवैध पिस्टल मिली।
 
 विरोध करने पर हुई पिटाई
 पीड़ित कारोबारी अंकित ने बताया कि पुलिस ने एक बक्से से रुपये बैग में भरे और मधुकर उसे लेकर फ्लैट से निकल गया। विरोध करने पर सभी को बुरी तरह पीटा। अंकित ने बताया कि फ्लैट में 3.38 करोड़ रुपये रखे थे। यह रकम उन्हें बांदा में अपने खदान पर पहुंचानी थी, लेकिन पुलिस ने एक बक्से से काफी रकम लूट ली। गिनती करने पर दोनों बक्सों में 1.53 करोड़ रुपये मिले।

 एसएसपी के निर्देश पर एसपी ग्रामीण विक्रांत वीर कारोबारी के फ्लैट पहुंचे और वहां लगा सीसीटीवी कैमरा खंगाला। फुटेज में मुखबिर मधुकर बैग लेकर जाता दिखा। कारोबारियों को गन पॉइंट पर लेकर लूटपाट करते पुलिसवाले और उनके साथी भी नजर आए।

 वहीं गोसाईंगंज थानाध्यक्ष ने बताया कि मधुकर ने फ्लैट में अवैध रकम होने की जानकारी दी थी। इस पर दरोगा आशीष ने उन्हें जानकारी देने की जगह अपने दोस्त एसआई पवन को बुलाया। पवन और बाकी लोग सादे कपड़ों में जबकि आशीष वर्दी पहनकर फ्लैट में घुसकर घटना को अंजाम दिया।

 

 

Find Us on Facebook

Trending News