INTERNATIONAL NEWS: साल 2021 में ताजा हुए 2001 के दर्द, अमेरिका ने मनाई बरसी औऱ काबुल में तालिबान ने बनाई सरकार

INTERNATIONAL NEWS: साल 2021 में ताजा हुए 2001 के दर्द, अमेरिका ने मनाई बरसी औऱ काबुल में तालिबान ने बनाई सरकार

N4N DESK: साल 2001 के पहले 6 महीने संयुक्त राष्ट अमेरिका के लिए बेहद ही सामान्य और शांत था. हालांकि इसी साल के बाकी 6 महीने बेहद दुखित, दर्द भरे और चिंता से भरे रहे. वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर 11 सितम्बर 2001 को जो हुआ, उसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है. इस हमले के आज 20 साल पूरे हो गये हैं.

दुनिया के इस सबसे बड़े आतंकी हमले में 2977 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी. इस आतंकी हमले की वजह से पूरी दुनिया थर्रा उठी थी. आज हमले की 20वीं बरसी है और इस मौके पर राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अमेरिकी नागरिकों के लिए एक संदेश ट्विटर के माध्यम से दिया. केवल राष्ट्रपति ही नहीं, पूरा देश आज शोक में है, शहीद जवानों और जान गंवाने वाले अपनों को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहा है.

इस दुखद मौके पर राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा की ‘11 सितंबर 2001 के 20 साल बाद हम 2977 लोगों को याद करते हैं, जिन्हें हमने खो दिया. हम इन लोगों का सम्मान करते हैं. जैसा कि हमने आने वाले दिनों में देखा, एकता हमारी सबसे बड़ी ताकत है. यही हमें बनाता है कि हम कौन हैं और हम इसे कभी नहीं भूल सकते.’ हमले की बरसी पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् के सदस्यों ने अपना बयान जारी किया और आतंकवाद को हर तरह से रोकने और मुकाबला करने की प्रतिबधता दोहराई. बता दें की मिली जानकारी के अनुसार संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी एस तिरुमूर्ति न्यूयॉर्क के ग्राउंड जीरो पर पहुंचकर सभी शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की. उन्होंने कहा कि 9/11 स्मारक हमें आतंकवाद से लड़ने और सामूहिक संकल्प की याद दिलाता है. 

11 सितंबर 2001 को अलकायदा के आतंकियों ने चार यात्री विमान का अपहरण किया था. आतंकियों ने वर्ल्ड ट्रेड सेंटर, ट्विन टावर में ले जाकर टकरा दिया और दोनों इमारतें 2 घंटे के भीतर ही ढह गयीं और इसके आसपास मौजूद कई मकानों को भारी नुकसान हुआ था. इस हमले के बाद कई बीमारियों के वजह से 250 फायरफायटर्स की जान जा चुकी है. इसी दिन तक़रीबन 354 फायरफायटर्स ने अपनी जान गंवाई थी. इस साल तालिबान से भी अमेरिकी सेना वापस लौट चुकी है, और वहां भी शांति बहाल करने में प्रयास में उसने अपने कई जाबांज सैनिक गंवाए हैं. अब अफगानिस्तान पूरी तरह से तालिबान के कब्जे में है, और आज ही के दिन वहां सरकार भी बनने जा रही है.



Find Us on Facebook

Trending News