सुशासन है या जंगलराज? बुद्धा कॉलोनी थाने के ड्राईवर का नंगा नाच, कार्यपालक अभियंता का पूरा परिवार दहशत में, केस दर्ज करने में कांप रहे हाथ

सुशासन है या जंगलराज? बुद्धा कॉलोनी थाने के ड्राईवर का नंगा नाच, कार्यपालक अभियंता का पूरा परिवार दहशत में, केस दर्ज करने में कांप रहे हाथ

PATNA: पटना में थाने का एक अदना सा ड्राइवर के आतंक से बड़े-बड़े लोग त्राहिमाम कर रहे। थाने का ड्राईवर गुंडागर्दी  कर रहा. वो अपने गुर्गों के साथ हर अवैध काम में संलिप्त है। फिर भी पुलिस उस पर कोई कार्रवाई नहीं कर रही। उल्टे पुलिस उसे पाक-साफ बताने में जुटी है। थाने के ड्राईवर का आतंक ऐसा है कि पटना पुलिस के बड़े अधिकारी भी एक्शन लेने से हिचकिचा रहे हैं। लिहाजा थाने में आवेदन देने के बाद भी केस दर्ज नहीं किया जा रहा। हद तो तब हो गई जब मोहल्ले में आतंक मचाने वाले ड्राईवर को स्थानीय पुलिस द्वारा निर्दोष बताया जा रहा।

ड्राईवर के आतंक से रिटायर्ड कार्यपालक अभियंता का परिवार दहशत में 

मामला राजधानी पटना के बुद्धा कॉलनी थाना इलाके का है। इस थाने के निजी ड्राईवर के आतंक से मोहल्ला के लोग परेशान हैं। 30 मार्च को विवाद काफी बढ़ गया। आरोप है कि बुद्धा कॉलोनी थाने का निजी ड्राईवर राजकुमार महतो अपने कुछ लोगों के साथ मिल कर एक रिटायर्ड कार्यपालक अभियंता देवेन्द्र प्रसाद सिंह के घर पर चढ़ कर गाली-गलौज,हंगामा और पत्थरबाजी किया। पटना के उत्तरी मंदिरी के रहने वाले रिटायर्ड कार्यपालक अभियंता देवेंद्र प्रसाद सिंह ने बुद्धा कॉलोनी थाने में जो आवेदन दिया है उसमें तमाम बातों का उल्लेख है। आरोप है कि 30 मार्च 2021 की शाम 7:30 बजे से लेकर 8:00 बजे तक राजकुमार महतो शराब के नशे में धुत होकर अपने गुर्गों के साथ आकर आवास पर गाली गलौज किया. मकान पर रोड़ेबाजी कर नंगा नाच किया. उस व्यक्ति के आतंक से पूरा परिवार भय के वातावरण में जीने को मजबूर है। 

सूचना के बाद मौके पर पहुंचे थे एएसपी

जिस समय बुद्धा कॉलोनी थाने का ड्राईवर  हंगामा और पत्थरबाजी कर रहा था उसी समय पीड़ित परिवार ने इसकी सूचना थाने को दिया। साथ ही हंगामा का वीडियो भी बना लिया। सूचना के बाद कोतवाली के एएसपी और बुद्धा कॉलोनी थाना के थानेदार भी घटनास्थल पर पहुंचे. पुलिस अधिकारियों ने स्थल का मुआयना किया और आश्वासन दिया कि कार्रवाई होगी। पीड़ित परिवार ने हंगामा पत्थरबाजी का वीडियो भी अधिकारियों को दिखाया और उन्हें भेजा.लेकिन थाना में आवेदन देने के बाद भी पुलिस आरोपी ड्राईवर के खिलाफ केस दर्ज करने की हिम्मत नहीं जुटा सकी।

बिना केस दर्ज किये ही आरोपी ड्राईवर को मिल गई क्लीन चिट

 जब स्थानीय थाने की पुलिस ने केस दर्ज नहीं किया तो पीड़ित परिवार ने वरीय अधिकारियों से जान-माल की सुरक्षा की गुहार लगाई है। परिवार का आरोप है कि बुद्धा कॉलोनी थाना का ड्राईवर शराब का धंधा करता है। इस धंधे में कई लोगों को शामिल कर रखा है। वह पूरे परिवार का जान का दुश्मन बन गया है। इस संबंध में जब बुद्धा कॉलोनी थानेदार से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जांच में ड्राईवर पर आरोप प्रमाणित नहीं हो रहा। अब बड़ा सवाल यही है कि जब केस ही दर्ज नहीं हुआ तो जांच किस बिंदू पर हुई। पूरे मामले में ऐसा लग रहा कि आरोपी ड्राईवर ने थाने को ही अपने चंगुल में ले लिया है। 

Find Us on Facebook

Trending News