यह देखना खास है : हिन्दुस्तान दिवाली की विदेशों में रही धूम, अमेरिकी राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति व ब्रिटेन के पीएम ने भी किया सेलिब्रेट

यह देखना खास है : हिन्दुस्तान दिवाली की विदेशों में रही धूम, अमेरिकी राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति व ब्रिटेन के पीएम ने भी किया सेलिब्रेट

DESK : दीपावली का त्योहार आम तौर पर हिन्दुस्तान का त्योहार माना जाता रहा है। लेकिन अब यह त्योहार विदेशों में भी धूमधाम से मनाया जाने लगा है। विदेशों में दिवाली पर्व कितना खास बन चुका है। इसका उदाहरण तब देखने को मिला, जब दुनिया से सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका के प्रेसिडेंट जो बाइडेन व फर्स्ट लेड जिल बाइडेन त्योहार को सेलिब्रेट करते नजर आए। 

यह देखना खास है : हिन्दुस्तान दिवाली की विदेशों में रही धूम, अमेरिका राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति व ब्रिटेन के पीएम ने भी किया सेलिब्रेट



दोनों ने देशवासियों को दिवाली की शुभकामनाएं दी। बाइडन ने अपनी पत्नी जिल बाइडन के साथ व्हाइट हाउस में एक दीया जलाते हुए अपनी तस्वीर साझा की.  इस दौरान बाइडेन ने ट्विटर पर अपने मैसेज में लिखा कि ''दिवाली की रोशनी हमें अंधकार से ज्ञान और सच्चाई, विभाजन से एकता, निराशा से आशा की याद दिलाती है. अमेरिका और दुनिया भर के हिंदुओं, सिखों, जैनियों और बौद्धों को दिवाली की शुभकामनाएं.''

उप राष्ट्रपति ने भी दी बधाई

अमेरिकी प्रेसिडेंट के अलावा अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने भी ट्विटर पर एक वीडियो जारी कर दिवाली की शुभकामनाएं दी. उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में रोशनी का त्योहार मनाया जा रहा है. लेकिन इस बार दिवाली के मायने बेहद अलग हैं. इस साल दिवाली विनाशकारी महामारी के बीच और भी गहरे अर्थ के साथ आ रही है. ये हॉलीडे हमें हमारे देश के सबसे पवित्र मूल्यों की याद दिलाता है. भारतीय मूल के होने के कारण दीपावली के त्योहार का महत्व को बेहतर तरीके से समझनेवाली कमला हैरिस ने इस दौरान लिखा कि कोरोना त्रासदी में अपनों को गवाने वालों के लिए संवेदनाएं प्रकट की. कमला हैरिस ने कहा कि हमें उन लोगों के साथ खड़ा होना चाहिए जिन्होंने इस आपदा में अपनों को खोया है. दुख में एक दूसरे का हाथ थामकर चलना ही इंसानियात है।

ब्रिटिश पीएम ने भी दी बधाई, कहा - अब समय अपनों से मिलने का है

 ब्रिटेन के प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने भी भारत में सभी को दिवाली और बंदी छोर दिवस की शुभकामनाएं दी. जानसन ने कहा कि हम सभी के कठिन समय के बाद मुझे आशा है कि यह दिवाली और बंदी छोर दिवस वास्तव में विशेष है. साल का यह समय परिवार और दोस्तों के साथ मिलने का है. जब हम पिछले नवंबर के बारे में सोचते हैं तो इसमें कोई संदेह नहीं है कि हम एक लंबा सफर तय कर चुके हैं. 


Find Us on Facebook

Trending News