जब सिगरेट का धुआं मुंह पर छोड़ा, टोकने पर युवती का सिर फोड़ा, दूसरी बहन का पैर तोड़ा

जब सिगरेट का धुआं मुंह पर छोड़ा, टोकने पर युवती का सिर फोड़ा, दूसरी बहन का पैर तोड़ा

डेस्क... खबर रायपुर से आ रही है  लोग इतने हिंसक हो गयें है की क्या कहें कानून का डर तो अब लोगों में नाम मात्र का दिख रहा है सिगरेट का धुआं मुंह पर छोड़ने से टोकना युवतियों को भारी पड़ गया। घर में घुसकर बदमाश ने युवती का सिर फोड़ दिया. घटना से आक्रोशित गुढ़ियारी इलाके रहवासियों ने मंगलवार की देर शाम पुलिस थाने का घेराव कर दिया. पुलिस पर आरोप लगाया गया कि न्यू कलिंग नगर में रहने वाली दो बहनों पर हुए जानलेवा हमले के मामले में बदमाशों को बचाया जा रहा है. शिकायत करने थाने पहुंची निशा ने बताया कि उसकी ननंद अंजली और सोनिया पर हमला किया गया है. 

अंजली का इलाके के बदमाश रशीद ने सिर फोड़ दिया और दूसरी ननंद सोनिया के घुटने पर बैट से हमला कर उसका घुटना तोड़ दिया। हम पुलिस से शिकायत कर रहे हैं, लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही. मेरी दोनों ननंद के साथ इस तरह मारपीट के बाद मुझे भी धमकाया जा रहा है. रशीद एक विधायक का चहेता है, इसलिए पुलिस कुछ नहीं कर रही. जानलेवा हमले की शिकार हुई लड़कियों की भाभी निशा ने बताया कि सोमवार को मेरी दोनों ननंद और देवर अनूप गोंदवारा में एक रिश्तेदार की शादी में शामिल होने गए थे. वहां मुहल्ले का रशीद अपने साथियों के साथ पहले से ही था. 

रशीद ने मेरे देवर के चेहरे पर सिगरेट का धुआं उड़ाया. ऐसा करने से मना करने पर रशीद ने मारपीट शुरू कर दी. बीच-बचाव करने गई अंजलि और सोनिया के साथ भी बदसलूकी की गई. हम सभी डर गए और फौरन वहां से घर वापस आ गए. कुछ देर बाद रशीद अपने साथियों के साथ हमारे घर आ गया. उसने हलवाइयों के इस्तेमाल करने वाले बड़े करछुल से अंजली के सिर पर जोरदार वार किया. बाल पकड़ कर सोनिया को घर से बाहर निकाला और बैट से उसके दायं पैर का घुटना तोड़ दिया. अंजली के सिर पर टांके लगे हैं . जख्म इस तरह हुआ है कि इलाज के लिए उसके पूरे बाल मुंडवाने पड़े. सोनिया चल फिर नहीं पा रही. सोनिया ने बताया कि परिवार बुरी तरह से डरा हुआ है, वह चाहती है रशीद और उसके साथियों को जेल हो.


 पीड़ित परिवार के साथ थाने का घेराव करने पहुंचे आम आदमी पार्टी के नेताओं ने इस घटना का विरोध किया. आप नेता अनुषा ने बताया कि महिला और उसका परिवार इलाके के गुंडों से परेशान है. क्षेत्र के विधायक ने रशीद और उसके साथियों को संरक्षण दे रखा है. जिसकी वजह से पुलिस इस मामले में फौरन कार्रवाई करने से बच रही है. रात में सड़क पर सरेआम महिलाओं को बुरी तरह पीटा गया. पुलिस को अगले दिन ही एक्शन लेना चाहिए था. जब हमने मंगलवार को थाने का घेराव किया तब पुलिस जागी. थाने का घेराव हुआ तो लोगों को पुलिस काफी देर तक समझाती रही. थाने में हंगामा बढ़ता देख पुलिस रशीद और उसके एक साथी बिनेश को पकड़कर ले आई। आश्वस्त किया गया कि कार्रवाई होगी. लेकिन महज ढई घंटे के बाद बिनेश को छोड़ दिया गया. रशीद और उस रात दोनों युवतियों के साथ मारपीट करने वाले उसके साथी फरार हैं. अब सवाल ये है की पुलिस अगर बदमाशों का संरक्षण करेगी तो लोग न्याय के लिए किसके पास जायेंगे. 

Find Us on Facebook

Trending News