जब सुपरस्टार रजनीकांत को मिला भीख में 10 रूपया

जब सुपरस्टार रजनीकांत को मिला भीख में 10 रूपया

N4N DESK: बॉलीवुड में कई बेहतरीन फिल्मों में अपनी अदाकारी की छाप छोड़ने वाले मशहूर कलाकार, जो फिल्म जगत का सबसे बड़ा सुपरस्टार बन गया. रजनीकांत फिल्म जगत का एक ऐसा नाम है, जिससे शायद ही कोई अनभिज्ञ होगा. कहने को तो रजनीकांत दक्षिण फिल्मों के सुपरस्टार है, मगर रजनीकांत देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी विख्यात है. रजनीकांत अपने आप में पहचान है, वे किसी के पहचान के मोहताज नहीं है.

एकलव्य के रोल से काला बनने की कहानी

शायद यह कम ही लोगों को पता होगा की रजनीकांत का पूरा नाम शिवाजी राव गायकवाड है. शिवाजी उर्फ रजनीकांत का जन्म 12 दिसंबर 1950 को एक मराठी परिवार में हुआ. शिवाजी जब 9 साल के थे तब मां की मौत हो गई. पिता हवलदार थे. रजनीकांत के भाई ने उन्हें पढ़ाई के लिए रामकृष्ण मिशन के अंतर्गत चलाए गए एक मठ में भेज दिया था. वहां पर रजनीकांत को पढ़ाई लिखाई के साथ साथ भारतीय संस्कृति और वेदों की भी जानकारी मिली. मठ में रहते हुए उन्होंने नाटकों में भी भाग लेना शुरू कर दिया. एक बार उन्होंने महाभारत में एकलव्य के दोस्त का रोल किया था.

कारपेंटर, कंडेक्टर की नौकरी रास न आई

परिवार के हालात ठीक नहीं थे. रजनीकांत को कुछ न कुछ करना था. जिसके चलते रजनीकांत ने कारपेंटर की नौकरी करना शुरू कर दिया. मगर आर्थिक तंगी के कारण रजनीकांत ने कारपेंटर की नौकरी छोड़ कुली की नौकरी शुरू कर दी. कुछ दिनों बाद यह नौकरी भी रास न आई. एक दिन बी.टी.सी में कंडेक्टर की वैकेंसी आई और फिर रजनीकांत चयनित हो गए. इस नौकरी से तो कुछ हालात तो सुधरे मगर पैसे कम होने के कारण मजा नहीं आया. जिसके बाद रजनीकांत ने मद्रास फिल्म इंस्टिट्यूट से डिप्लोमा करने के दौरान कई स्टेज शो भी किए. रजनीकांत की पहली फिल्म अपर्व रागांगला 1975 में आई थी.

महिला ने भिखारी समझ दे दिए 10 रूपए

रजनीकांत को लोग भगवान की तरह पूजते है. रजनीकांत की जब फिल्म आती है तब रजनीरकांत फैंस कल्ब उनके पोस्टर को हजारों लीटर दूध से स्नान करवाते है. शिवाजी फिल्म हिट होने के बाद साधारण कपड़ो में गए रजनीकांत पूजा कर मंदिर के पिलर के नीचे बैठ गए. तभी एक महिला ने भिखारी समझ कर उन्हें 10 रूपया दे दिया. रजनीकांत महिला को बिना कुछ कहे पैसे को अपने जेब में रख लिया. बाद में जब रजनीकांत गाड़ी में बैठते वक्त महिला उनकों देख कर शर्मिंदा हुई और माफी मांगने लगी. जिसके बाद रजनीकांत ने कहा ये तो परमात्मा का आशीर्वाद है. 

Find Us on Facebook