जलंधर से छुड़ाए गए बिहार के 37 नौनिहाल, काम कराने के लिए पैसों का लालच देकर ले गए थे ठेकेदार

जलंधर से छुड़ाए गए बिहार के 37 नौनिहाल, काम कराने के लिए पैसों का लालच देकर ले गए थे ठेकेदार

जलंधर। बिहार से मानव तस्करी कर पंजाब लाए 37 बच्चों को पुलिस ने छुड़ाने में कामयाबी हासिल की है। उक्त कार्रवाई पंजाब के जालंधर में की गई है। जहां पुलिस और श्रम विभाग की संयुक्त टीम ने कार्रवाई करते हुए कादियांवाल और फोलड़ीवाल इलाके के फार्म हाउसों में छापेमारी करके 37 बच्चे बरामद किए हैं। सभी नाबालिग बच्चे बिहार के हैं और बीते डेढ़ साल से यहां बंधक बनाकर रखे गए थे। इनकी उम्र 8 से 14 साल बताई जा रही है। यह सभी बच्चे बिहार राज्य के सीतामढ़ी, खगड़िया सहित कई जिलों के हैं। फिलहाल पुलिस ने थाना सदर में आईपीसी की धारा 370 (मानव तस्करी) और चाइल्ड लेबर एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। इसमें खगड़िया के व्यक्ति को आरोपी बनाया है।

सीपी जीएस भुल्लर ने बताया कि बचपन बचाओ आंदोलन के मोहन सादा निवासी खगड़िया (बिहार) ने ई-मेल के जरिये शिकायत भेजी थी कि प्रवेश सादा निवासी गांव अरहन जिला खगड़िया आसपास के गांवों में रहते परिवारों को गुमराह करता है कि उनके बच्चे पंजाब में जाकर हर महीने के दस हजार रुपए कमाएंगे। वह बच्चों को वहां से लाकर यहां पर खेतों में काम करवाता है।बच्चे फोलड़ीवाल और कादियांवाली एरिया में फार्म हाउसों में काम करते हैं।   जिसके बाद संस्था और हमारी टीम उक्त जगह कार्रवाई के लिए पहुंची थी। 

इस तरह मिली जानकारी

बचपन बचाओ आंदोलन के कोआर्डिनेटर दिनेश कुमार ने बताया कि हमारी संस्था बिहार में बच्चों के जीवन की रक्षा के लिए मुक्ति कारवां कैंपेन चला रही है। इसी कैंपेन में पता चला कि सीतामढ़ी-खगड़िया सहित आसपास के जिलों से दर्जनों की संख्या में बच्चों को बहला फुसलाकर ठेकेदार अपने साथ ले गए हैं। बच्चों को घर से लाने के बाद परिजनों को यह भी नहीं बताया गया कि बच्चे कहां हैं और न ही उन्हें कोई पैसे मिले। 3-4 माह बाद भी बच्चों की जानकारी नहीं मिली थी। उन्होंने बताया कि हमारी टीम छह माह से इस पर काम कर रही थी। जिसके बाद पंजाब पुलिस से संपर्क किया गया। हाई प्रोफाइल मामले होने के कारण खुद पुलिस कमिश्नर पूरे मामले की मॉनिटरिंग कर रहे थे। 

फिलहाल पुलिस ने थाना सदर में आईपीसी की धारा 370 (मानव तस्करी) और चाइल्ड लेबर एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। इसमें खगड़िया के व्यक्ति को आरोपी बनाया है। गा फार्म से छुडवाए गए बच्चों को रात में सीडब्ल्यूसी के समक्ष पेश किया गया, जहां सुनवाई के बाद बच्चों को बॉयज शेल्टर में भेजा गया है। 

Find Us on Facebook

Trending News