बड़ी खबर: बिहार विधानसभा चुनाव में जेडीयू के खिलाफ प्रत्याशी उतारेगी लोजपा

बड़ी खबर: बिहार विधानसभा चुनाव में जेडीयू के खिलाफ प्रत्याशी उतारेगी लोजपा

DESK: बिहार में 123 सीटों पर एलजेपी चुनाव लड़ेगी यही नहीं बिहार विधानसभा चुनाव में जेडीयू के ख़िलाफ़ प्रत्याशी उतारे जाऐंगे. जी हां इस बार बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए के अंदर भारी घमासान देखने को मिलेगा. क्योंकि चिराग पासवान नीतीश कुमार से लड़ाई लड़ने के मूड में दिखाई दे रहे हैं. अब तो इस बात पर मुहर लगाते हुए लोजपा के बिहार संसदीय बोर्ड के सदस्य सह प्रवक्ता संजय सिंह ने कह दिया है कि आज संसदीय दल के बैठक में इस बात की मांग करेंगे.

लोजपा के बिहार संसदीय बोर्ड के सदस्य सह प्रवक्ता संजय सिंह का कहना है कि बिहार चुनाव में लोजपा को 123 सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए और जेडीयू के ख़िलाफ़ प्रत्याशी उतारे जाने चाहिए. इस बात की मांग संजय सिंह बैठक के दौरान करेंगे. आपको बता दें बिहार विधानसभा के गहमागहमी के बीच एनडीए के भभक रहे चिराग आज कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं. लोजपा चीफ चिराग पासवान में आज संसदीय दल की बैठक बुलाई है. अपने नेताओं के साथ आज अहम में यह फैसला हो सकता है कि आगामी बिहार विधानसभा चुनाव जदयू  के खिलाफ लड़ा जाए या नहीं. 

बिहार में सत्ताधारी एनडीए गठबंधन में जदयू और लोजपा की बीच चल रहा तनातनी किसी से छिपी नहीं हैं. चिराग पासवान ने विज्ञापन छपवाकर अपनी लाइन क्लीयर कर दिया है. चिराग पासवान लगातर सीएम नीतीश को चुनौती दे रहे हैं इसी सिलसिले में आज की बैठक से पहले  राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने जेडीयू  अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार  पर फिर निशाना साधते हुए कहा कि मारे गए अनुसूचित जाति और जनजाति समुदाय के लोगों के परिजन को सरकारी नौकरी देने का उनका फैसला 'और कुछ नहीं, बल्कि चुनाव संबंधी घोषणा' है.

सीएम नीतीश कुमार को लिखे एक खत में चिराग पासवान ने उन पर अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोगों से पूर्व में किये गए वादों को पूरा नहीं करने का आरोप लगाया. इन वादों में उन्हें तीन डिसमिल जमीन देने का भी जिक्र था. एलजेपी अध्यक्ष ने कहा, नीतीश कुमार की सरकार अगर गंभीर थी, तो समुदाय के उन सभी लोगों के परिवार के एक सदस्य को नौकरी देनी चाहिए थी, जो उनके 15 साल के शासन के दौरान मारे गए.


Find Us on Facebook

Trending News