जेडीयू के इन नेताओं पर एनडीए के खिलाफ काम करने का आरोप, चुनाव बाद पार्टी करेगी कार्रवाई

PATNA : जेडीयू के तकरीबन आधा दर्जन नेताओं पर एनडीए के खिलाफ काम करने का आरोप लग रहा है। अंदरखाने से जो बात निकलकर सामने आ रही है उसके अनुसार चुनाव बाद इन नेताओं के खिलाफ पार्टी नेतृत्व की ओर से कड़ी कार्रवाई की जायेगी। 

जिन नेताओं पर पार्टी और गठबंधन विरोधी काम करने का आरोप लग रहा है उनमें पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह, मुन्ना शुक्ला, अनु शुक्ला और जदयू के प्रदेश महासचिव देव कुमार चौरसिया है। ये सभी पार्टी की अनुशासनिक कार्रवाई के दायरे में आ सकते हैं। 

बताया जा रहा है कि इन नेताओं को लेकर लोजपा ने जदयू के समक्ष अपनी नाराजगी दर्ज कराई है। लोजपा की ओर से आरोप लगाया गया है कि इनके द्वारा उनके प्रत्याशियों को हराने के लिए पूरी ताकत के साथ कैंपेन चलाया गया। लोजपा द्वारा नाराजगी व्यक्त किये जाने के बाद जेडीयू इन नेताओं के उपर कार्रवाई कर सकती है। 

बता दें कि जमुई लोकसभा क्षेत्र में नरेंद्र सिंह ने महागठबंधन के उम्मीदवार भूदेव चौधरी का समर्थन किया। लोजपा के निवर्तमान सांसद रामा सिंह के साथ उन्होंने जमुई के गांवों में कई बैठकें कीं। उसमें मतदाताओं से आग्रह किया कि चिराग के खिलाफ मतदान करें। इतना ही नहीं वे हाजीपुर में लोजपा उम्मीदवार पशुपति कुमार पारस के विरोध में भी प्रचार करने गए। लोजपा के पास इसके दस्तावेजी प्रमाण है कि नरेंद्र सिंह ने हाजीपुर में भी महागठबंधन के उम्मीदवार शिवचंद्र राम के लिए वोट मांगा।

कहा जा रहा है कि नरेंद्र सिंह की नाराजगी इस बात को लेकर है कि लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान ने विधानसभा के पिछले चुनाव में उनके पुत्र की उम्मीदवारी का विरोध किया था।

इसी तरह देव कुमार चौरसिया ने प्रदेश नेतृत्व को जानकारी देकर लोजपा उम्मीदवार पशुपति कुमार पारस का विरोध किया। 2014 में वे हाजीपुर विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय उपचुनाव लड़ रहे थे। उस समय पारस ने उनके खिलाफ वोट मांगा था। कहते हैं कि चौरसिया ने उसी का बदला लिया।

निर्दलीय चुनाव लडऩे से पहले तक चौरसिया लोजपा से ही जुड़े थे। वह उप चुनाव हाजीपुर के तत्कालीन भाजपा विधायक नित्यानंद राय के सांसद बनने के कारण हुआ था।

वहीं हाजीपुर में मतदान के दिन जदयू के पूर्व विधायक मुन्ना शुक्ला ने नोटा का बटन दबाया। लालगंज विधानसभा क्षेत्र के अपने मतदान केंद्र पर नोटा का बटन दबाने के बाद उन्होंने इसे स्वीकार भी किया। हाजीपुर लोकसभा में ही लालगंज विधानसभा क्षेत्र है।

उन्होंने वैशाली लोकसभा क्षेत्र के स्वजातीय मतदाताओं से भी नोटा का बटन दबाने की अपील की। वैशाली में लोजपा उम्मीदवार वीणा देवी चुनाव लड़ रही थीं।प्रदेश जदयू के महासचिव देव कुमार चौरसिया पर भी आरोप है कि उन्होंने हाजीपुर में लोजपा के बदले राजद उम्मीदवार के लिए वोट मांगा।

विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News