JDU की बैठक खत्म, बिहार में भाजपा से गठबंधन तोड़ने पर लगी मुहर, नीतीश कुमार अब तेजस्वी संग बनाएंगे सरकार

JDU की बैठक खत्म, बिहार में भाजपा से गठबंधन तोड़ने पर लगी मुहर, नीतीश कुमार अब तेजस्वी संग बनाएंगे सरकार

पटना. बिहार में जदयू ने भाजपा से अपना नाता तोड़ लिया है. जदयू की बैठक में इस पर मुहर लगी. बैठक में नीतीश कुमार ने जदयू के सांसदों और विधायकों को बताया कि कैसे भाजपा उनके दल को तोड़ने की कोशिश कर रही है. इसीलिए नीतीश कुमार अब ऐसे दल के साथ नाता नहीं रखना चाहते हैं जो उनके दल को तोड़े. बैठक में मौजूद नेताओं ने नीतीश कुमार को निर्णय लेने की स्वतंत्रता दी जिसके बाद उन्होंने भाजपा से नाता तोड़ने की ऐलान किया. 

इसके पहले नालंदा से सांसद कौशलेन्द्र ने भी दावा किया है कि जदयू के विधायकों को भाजपा की ओर से तोड़ने के लिए प्रलोभन दिया गया था. विधायकों को भाजपा की ओर से 6-6 करोड़ रुपए का ऑफर देने की बात कही गई. यहां तक कि रविवार को जदयू अध्यक्ष ललन सिंह ने भी कहा था कि वर्ष 2020 के विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमर को कमजोर करने के लिए चिराग मॉडल अपनाया गया. बाद में आरसीपी के रूप में फिर से चिराग मॉडल 2 लाया जा रहा था. लेकिन समय रहते जदयू ने इसे पहचान लिया. उन्होंने कहा था कि हम सब जानते हैं कि चिराग मॉडल किसका था. कहा गया कि उनका इशारा भाजपा की ओर था. 


दरअसल, 2020 में चिराग मॉडल के कारण जदयू ने जिन विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव लड़ा वहां लोजपा ने अपने उम्मीदवार उतारे. इससे जदयू को बड़ा झटका लगा और उसके सीटों की संख्या घटकर 43 रह गई. यानी जदयू का कद छोटा करने की कोशिश 2020 में शुरू हुई. अब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का छोटे दलों को खत्म करने की ओर इशारा वाली टिप्पणी से नीतीश कुमार नाराज बताए जाते हैं. 

कहा जा रहा है कि इन्हीं कारणों से नीतीश कुमार अब भाजपा को सबक सिखाना चाहते हैं. अब वे राजद नेता तेजस्वी यादव को सरकार में प्रमुख जिम्मेदारी देकर खुद सीएम पद पर रहते हुए भाजपा को सबक सिखाएंगे. इसके लिए आने वाले विधानसभा और लोकसभा चुनाव में नीतीश कुमार रणनीति बनाएंगे. 


Find Us on Facebook

Trending News