अनोखी पहल: जेडीयू विधायक रंजू गीता बनीं टीचर, ले रही अभिभावकों की क्लास

अनोखी पहल: जेडीयू विधायक रंजू गीता बनीं टीचर, ले रही अभिभावकों की क्लास

SITAMARHI : अब तक आपने कई पाठशालाएं देखी होगी। कहीं आईएएस तो कहीं आईपीएस को आपने बच्चों को साक्षर बनाते देखा होगा। लेकिन आज हम जिस पाठशाला की बात करेंगे वो जरा हट कर और बेहद रोचक है। ये किसी विद्यालय में क्लास लेती प्राचार्य या सरकार की कोई अधिकारी की कहानी नहीं है, जिन्हें बच्चों और उनके अभिभावकों को साक्षर बनाने का जिम्मा मिला है। दरअसल ये बिहार के सीतामढ़ी जिले कि बाजपट्टी विधायक सह समाज सुधार वाहिनी की अध्यक्ष डॉ रंजू गीता है। जो इन दिनों अपने विधानसभा क्षेत्र में एक शिक्षिका के रूप में नजर आ रही है। 

इन दिनों विधायिका जी अपने राजनीतिक समय में से सप्ताह का दो दिन अपने विधानसभा के लोगों को साक्षर बनाने में लगा रही है। सप्ताह में हर शनिवार और रविवार को विधायक महोदया एक-एक घंटे का क्लास तो लेती ही है, साथ ही साथ इन वयस्कों को होमवर्क भी देती है। विधायक के इस पहल से जहां सरकार के महत्वकांक्षी योजना सब पढ़े- सब बढ़े अभियान को मजबूती मिली है तो वहीं पढ़ने आने वाली अनपढ़ महिलाएं भी विधायक की इस पहल से काफी खुश दिख रही हैं। विधायक की पाठशाला इन दिनों जिले में चर्चा का विषय बनी हुई है, और लोग इसकी प्रशंसा करते नहीं थक रहे है।


जेडीयू विधायक रंजू गीता ने बताया कि इस अभियान की शुरुआत भी पार्टी के सदस्यता अभियान के साथ शुरु हुई है। दरअसल बिहार में जेडीयू द्वारा सदस्यता अभियान का प्रारंभ 8 जून से शुरु किया गया है। जिसमें सभी संसद, विधायक समेत पार्टी के सभी नेताओं को अपने अपने क्षेत्रों में नए लोगों को पार्टी की सदस्यता दिलानी है। इसी क्रम में विधायक डॉ रंजू गीता ने इसकी शुरूआत अपने विधानसभा क्षेत्र स्थित अपने गाँव मधुबन बासा पश्चिमी पंचायत से की।

 सदस्यता अभियान के दौरान विधायक ने महसूस किया कि आधे से अधिक पंचायत के लोगों को अपना नाम भी लिखना नहीं आता है तो उन्होंने उन्हें साक्षर बनाने का बीड़ा उठाया।  इसको लेकर विधायक रंजू गीता ने पार्टी के सदस्यता अभियान के साथ- साथ सप्ताह में दो दिन शनिवार और रविवार को खुद से विधानसभा के सभी 42 पंचायतो में एक- एक घंटे पढ़ने का संकल्प लिया और महिलाओं को एक जूट कर साक्षर बनाने के अभियान में जुट गई हैं।


Find Us on Facebook

Trending News