नीतीश के बयान को जेडीयू ने किया साफ, चुनाव प्रचार की बात कर रहे थे मुख्यमंत्री

नीतीश के बयान को जेडीयू ने किया साफ, चुनाव प्रचार की बात कर रहे थे मुख्यमंत्री

पटना... बिहार विधानसभा चुनाव के तीसरे और आखिरी चरण के मतदान का प्रचार थमने से पूर्व सीएम नीतीश कुमार के अंतिम चुनाव वाले बायन के आशाय को जेडीयू ने साफ कर दिया है। गुरुवार को पूर्णिया के धमदाहा के चुनावी सभा को संबोधति करते हुए सीमए नीतीश कुमार ने कहा था कि ये मेरा अंतिम चुनाव है और अंत भला तो सब भला। इसके बाद राजनीतिक गलियारों में जैसे सीएम ने चर्चा के लिए एक नया मुद्दा दे दिया हो। 

धमदाहा में लेसी सिंह के पक्ष में वोट की अपील सीएम नीतीश कुमार ने की। इस दौरान उन्होंने सभा को संबाधित करते हुए कहा कि ये मेरा आखिरी चुनाव है और इस चुनाव मंे अगर अंत होगा तो सब भला होगा। अब इस बयान के आते ही विपक्ष को मानों जैसे आरोप लगाने का एक नया मुद्दा मिल गया हो। 

नीतीश के बयान के बाद ताबड़तोड़ विपक्ष में बैठे लोगों ने बयानबाजी शुरू कर दी। लोजपा प्रमुख चिराग पासवान कहा कि अभी से ही मैदान छोड़कर भाग रहे हैं अभी तो हिसाब देने का समय आ गया है। वहीं राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि मैने पहले ही कहा थी कि नीतीश कुमार थक चुके हैं और उन्हें कुर्सी खाली कर देनी चाहिए। 

इस पूरे मामले को लेकर अब जेडीयू ने नीतीश के बयान के आशाय को समझाया है। जेडीयू की ओर से आए बयान में कहा गया है कि नीतीश के अंतिम चुनाव का मतलब था, चुनाव प्रचार के अंतिम दिन। उनका ये अंतिम चुनाव नहीं है। वो अभी रिटायर्ड नहीं हो रहे हैं। बिहार की जनता जब तक चाहेगी तब तक नीतीश कुमार सेवा करते रहेंगे। 

वहीं, जेडीयू के प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि राजनीतिज्ञ और डाॅक्टर कभी रिटायर्ड नहीं होते हैं। सीएम नीतीश कुमार ने दशकों तक बिहार के जनता की सेवा की है और अंतिम सांस तक करते रहेंगे। 


Find Us on Facebook

Trending News