जदयू के कुशवाहा ने किया हिंदुओं के बीफ खाने के समर्थन, बोले खाने-पीने की आजादी हो

जदयू के कुशवाहा ने किया हिंदुओं के बीफ खाने के समर्थन, बोले खाने-पीने की आजादी हो

पटना. जदयू के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष व एमएलसी उपेन्द्र कुशवाहा का मानना है की अगर कोई व्यक्ति स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर बीफ खाता है तो इससे किसी अन्य व्यक्ति को दिक्कत नहीं होनी चाहिए. साथ ही लोग क्या खाते पीते हैं इस पर उनकी आजादी बनी रहनी चाहिए. 

कुशवाहा का यह बयान कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने ने सावरकर के किताब में लिखे शब्दों का उल्लेख करते हुए कहा है कि सावरकर ने अपनी किताब में लिखा है कि हिंदुओं को गाय का मांस खाने से कोई दिक्कत नहीं होता है. रविवार को संवाददातों ने जब कुशवाहा से दिग्विजय के इस बयान पर सवाल किया तो उन्होंने कहा, दिग्विजय सिंह ने क्या कहा, क्या नहीं कहा मैं उस पर नहीं जाता हूं. लेकिन लोगों को अपनी आजादी है खाने पीने की. वह आजादी बनी रहनी चाहिए. साथ ही उन्होंने कहा कि अगर स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए लोग किसी प्रकार का खाना या भोजन करते हैं तो उससे किसी को दिक्कत नहीं होनी चाहिए.

दरअसल भारत में लोगों को बीफ यानी गाय का मांस खाने की छूट हो या नहीं हो इस पर अक्सर विवाद होता रहता है. खासकर हिंदुओं के बीफ खाने के मसले पर आए दिन राजनीतिक बयानबाजी होती है. इसी क्रम में दिग्विजय सिंह का हालिया बयान आया है और अब उस पर कुशवाहा ने अपनी राय रखी है. 

इस बीच कुशवाहा ने शराबबंदी कानून का सख्ती से पालन करवाने और लोगों को जागरूक करने के लिए जदयू द्वारा शुरू की गई साइकिल रैली के जरिए जागरूकता अभियान की शुरुआत की गई. उपेंद्र कुशवाहा ने हरी झंडी दिखाकर इस अभियान की शुरुआत की. उन्होंने बताया कि इस जागरूकता अभियान का मुख्य उद्देश्य कि लोगों को शराब न पीने के प्रति जागरूक करना है. यदि कोई लोग अभी भी शराब का सेवन कर रहे हैं तो वह से बंद कर दें और इस अभियान में सहयोग दें. उन्होंने कहा कि जिस तरीके से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समाज सुधार यात्रा पर हैं और लगातार लोगों को जागरूक कर रहे हैं हम भी साइकिल रैली के जरिए लोगों को जागरूक करने का प्रयास कर रहे हैं.


Find Us on Facebook

Trending News