तारापुर में JDU की डूबेगी नैया! CM नीतीश के कैंडिडेट तो 'बम विस्फोट' के आरोपी, हार के डर से JDU नेताओं के फूल रहे हाथ-पांव

तारापुर में JDU की डूबेगी नैया! CM नीतीश के कैंडिडेट तो 'बम विस्फोट' के आरोपी, हार के डर से JDU नेताओं के फूल रहे हाथ-पांव

PATNA: बिहार में विधानसभा की 2 सीटों पर उप चुनाव हो रहे हैं। कुशेश्वरस्थान और तारापुर दोनों सीटें जेडीयू कोटे की है। लिहाजा सीटिंग सीट को बचाये रखना सत्ताधारी दल के लिए बड़ी चुनौती है। वैसे तो तारापुर में जेडीयू की नाव डगमगा रही है। राजद की तरफ से मैदान में वैश्य कैंडिडेट अरूण कुमार साह को उतारने की वजह से जेडीयू भारी टेंशन में है। अगर एनडीए का आधार वोट टूटा तो करारी हार से कोई नहीं बचा सकता। वहीं जेडीयू कैंडिडेट ने उप चुनाव में जिसे उम्मीदवार बनाया है उस पर बम विस्फोट समेत तीन संगीन आरोप हैं। विपक्षी दल के नेता यह भी खूब भूना रहे हैं।  

मेवालाल चौधरी के निधन से खाली हुई है सीट

जेडीयू ने तारापुर से राजीव कुमार सिंह को प्रत्याशी बनाया है। सीटिंग विधायक मेवालाल चौधरी के निधन के बाद जब उनके बेटे चुनाव लड़ने को तैयार नहीं हुए तो राजीव कुमार सिंह को जेडीयू ने उम्मीदवार बनाया। 2015 में भी इस सीट से जेडीयू कैंडिडेट मेवालाल चौधरी ही चुनाव जीते थे। 2010 में इनकी पत्नी नीता चौधरी विधायक बनी थी। यानी लंबे समय से यह सीट जेडीयू के खाते में है। हालांकि जेडीयू ने तारापुर विस सीट से इस बार जिसे उम्मीदवार बनाया है उस पर बम विस्फोट कराने,जानलेवा हमला कराने जैसे संगीन केस हैं। अपने कैंडिडेट की जीत सुनिश्चित करने को लेकर जेडीयू ने भी पूरी ताकत झोंक दी है। राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह समेत पार्टी के कई वरिष्ठ नेता व मंत्री तारापुर में चुनावी प्रचार कर रहे हैं। हालांकि अभी तक बीजेपी का कोई बड़ा नेता तारापुर में चुनाव प्रचार करने नहीं गया है। 

जेडीयू कैंडिडेट की केस कुंडली 

जेडीयू कैंडिडेट राजीव कुमार सिंह पर तारापुर थाना में वर्ष 2014 में केस दर्ज हुआ था. आरोपी पर विस्फोटक पदार्थ अधिनियम के तहत मुकदमा हुआ था . प्रत्याशी पर घर के सामने गोदाम में अचानक बम विस्फोट से संबंधित आरोप है. यह केस मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मुंगेर की अदालत में लंबित है. वहीं दूसरा केस भी तारापुर थाना में दर्ज है. यह केस 1994 में आर्म एक्ट के तहत केस दर्ज हुआ था. अवैध हथियार रखने के मामले में पुलिस ने केस दर्ज किया था. यह मामला भी मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मुंगेर कि यहां लंबित है. तीसरा केस तारापुर थाना में ही दर्ज है. इसमें जानलेवा हमला ( धारा 307), आर्म एक्ट जैसी गंभीर धाराओं में केस दर्ज हुआ था. इसमें नाजायज मजमा बनाकर जानलेवा हमला करने का आरोप है.यह केस भी मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मुंगेर की अदालत में चल रहा है। जेडीयू प्रत्याशी राजीव कुमार सिंह ने नामांकन के समय जो शपथ-पत्र दिया है उसी में इन केसों की उल्लेख है। 

Find Us on Facebook

Trending News