BREAKING NEWS - तेजस्वी का बड़ा आरोप - रामसूरत राय के नाम पर चल रहा है स्कूल, मंत्री के हर चैलेंज का जवाब देने के लिए तैयार हैं हम

BREAKING NEWS - तेजस्वी का बड़ा आरोप - रामसूरत राय के नाम पर चल रहा है स्कूल, मंत्री के हर चैलेंज का जवाब देने के लिए तैयार हैं हम

पटना। बिहार में शराबबंदी को लेकर तेजस्वी यादव लगातार हमलावर हैं। जिसको लेकर शनिवार को अपने आवास पर एक प्रेस वार्ता आयोजित की। उन्होंने कहा कि रामसूरत राय के  भाई पर एफआईआर होता है, लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होती है। जबकि शराबबंदी कानून में यह नियम बनाया गया है कि जहां शराब बरामद होगा, वहां थाने खोला जाएगा, लेकिन नवंबर में हुए इस घटना में अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है

उन्होंने कहा कि रामसूरत राय ने यह बयान दिया है कि स्कूल की जमीन उनके भाई के नाम पर है और स्कूल का संचालन कोई और करता है। उन्होंने इस बयान को गलत बताते हुए स्कूल का बिल पेश किया और जिसमें राम सूरत राय के नाम पर है। साथ ही उन्होंने स्कूल का नाम रामसूरत के पिता के नाम पर बताया और कहा कि राम सूरत राय झूठ बोल रहे हैं। मंत्री ने जो चैलेंज दिया है, वह हम स्वीकार करते हैं। 

तेजस्वी यादव ने कहा अगर कोई स्कूल खोलेगा, तो क्या जमीन के मालिक के नाम पर खोलेगा. इस मामले में अमरेंद्र प्रताप को गिरफ्तार किया है. अमरेंद्र प्रताप इस स्कूल का हेडमास्टर है. अमरेंद्र प्रताप ने पुलिस को फोन कर पूरे मामले की जानकारी दी. पर सरकार के दवाब में आकर पुलिस ने फोन करने वाले अमरेंद्र प्रताप को ही गिरफ्तार कर लिया. पूरे मामले की जानकारी मुझे अमरेंद्र के परिजन ने लिख कर दी है. साथ ही अमरेंद्र के भाई भी हमसे आकर मिले. उन्होंने ही पूरी जानकारी दी. 


तेजस्वी यादव ने कहा कि अमरेंद्र प्रताप के भाई अंशु ने कहा कि  इस स्कूल का संचालन मेरे भाई अमरेंद्र प्रताप कर रहे हैं. उस रात एक टक में शराब स्कूल में आई गई. तब अमरेंद्र ने पूरे मामले ही जानकारी रामसूरत राय के भाई को दी. और फिर बोचहां पुलिस को दी. इस दौरान मंत्री जी को फोन किया गया, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया। 

एग्रीमेंट की कॉपी दिखाए

तेजस्वी यादव ने कहा कि  मंत्री जी ने अनुरोध है कि मंत्री जी ने कहा है कि इस जमीन को लीज पर अमरेंद्र प्रताप को दिया गया. तो मंत्री लीज का पेपर दिखाए. उन्होंने कहा कि अमरेंद्र कुमार के परिजनों ने मामले में सीएम नीतीश कुमार सहित बिहार के डीजीपी को इस संबंध में लेटर लिखा गया था, लेकिन मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इस दौरान उन्होंने अमरेंद्र कुमार के भाई को मीडिया के सामने प्रस्तुत किया, जिन्होंने स्कूल के संचालन को लेकर मंत्री राम सूरत राय की सारी पोल खोल दी गई। 

चार साल से चल रहा है स्कूल

तेजस्वी यादव ने बताया कि इस स्कूल की शुरुआत 2017 में की गई थी। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले की जांच होनी चाहिए। अगर स्कूल के हेडमास्टर ने फोन किया था तो उसकी कॉल रिकार्डिंग होगी। जिससे सारी सच्चाई सामने आ जाएगी।

सीएम दें स्पष्टीकरण

मामले में तेजस्वी यादव ने मंत्री रामसूरत राय के इस्तीफे की मांग करते हुए सीएम नीतीश कुमार से इस्तीफे की मांग की है। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले में हेडमास्टर के परिवार को भी जान का खतरा है, जिन्हें सुरक्षा मुहैया कराया जाए।


Find Us on Facebook

Trending News