नीतीश से मिलने अचानक कहां पहुंचे जीतनराम मांझी, पढ़िए पूरी खबर

नीतीश से मिलने अचानक कहां पहुंचे जीतनराम मांझी, पढ़िए पूरी खबर

PATNA: एक तरफ जदयू और भाजपा के बीच शुरू हो चूके शीत युध्य के चर्चाओं का बाजार गर्म था तो वही दूसरी तरफ नीतीश के धूर राजनितिक दुश्मन रहे मांझी जदयू के इफ्तार पार्टी में शिरकत करने पहुंच गए. कहा जाता है कि राजनीती में ना तो कोई स्थाई दोस्त होता है न ही कोई दुश्मन होता है. 

पिछले दो दशकों के अन्दर बिहार के राजनितिक पटल पर दलों के जुड़ने और बिछुड़ने का खेल कई दफा खेला गया है. उस खेल के सबसे माहिर खिलाड़ी में मांझी भी एक रहे हैं. बता दे कि मांझी को को जब नीतीश कुमार ने अपनी कुर्सी सौपी तो कुछ ही दिन बाद कायदे से मांझी ने नीतीश से बगावत करते हुए कलटी मार दी थी. तब से आज तक नीतीश कुमार मांझी का नाम लेना भी मुनासीब नहीं समझते थे. 

लेकिन दिल्ली से दिल तोड़ कर आये नीतीश ने जब से अपने मन की बात कही है तो धूर विरोधियों ने भी उनपर डोरे डालने शुरू कर दिए है. संभवतः इफ्तार के बहाने ही बिहार की राजनीती एक नए समीकरण की रफ़्तार पकड़ने की ओर अग्रसर है. 

आगे की राजनीती क्या होगी ये तो वक़्त बताएगा लेकिन फ़िलहाल तस्वीर की तासीर यह बताने के लिए प्रर्याप्त है कि दिल मिलें न मिले हाथ मिलते रहिए के तर्ज पर  बीजेपी और जदयू तो साथ साथ है लेकिन इस साथ को बे-हाथ करने के लिए कई हाथ सक्रिय हो गए है. 

Find Us on Facebook

Trending News