पावापुरी मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों की दादागिरी, मरीज के परिजन को दौड़ा दौड़ा कर पीटा

पावापुरी मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों की दादागिरी, मरीज के परिजन को दौड़ा दौड़ा कर पीटा

NALANDA : एक तरफ चमकी बुखार को लेकर बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था की किरकिरी हो रही है. दूसरी तरफ इलाज के लिए कहने पर बिहार में डॉक्टर मरीज के परिजनों की पिटाई कर रहे हैं. ऐसा ही मामला नालंदा जिले में सामने आई हैं. 

शुक्रवार को पावापुरी मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टरों ने जमकर अपनी दादागिरी दिखाई. यहाँ जब मरीजों के परिजनों ने जूनियर डॉक्टरों को इलाज करने को कहा तो वे नाराज हो गए. इसके बाद ड्यूटी पर तैनात जूनियर डॉक्टरों के अलावे अन्य छात्रों ने मरीज के परिजन को दौड़ा दौड़ा कर पीटना शुरू कर दिया. 

मामले की जानकारी मिलते ही नालन्दा के एसपी नीलेश कुमार कई थानों की पुलिस के साथ अस्पताल पहुँचे. काफी मशक्कत के बाद पिटे जा रहे युवक को जूनियर डॉक्टरों के चंगुल से छुड़ाया. इस दौरान जूनियर डॉक्टरों और पुलिस पदाधिकारियो में भी हाथापाई हुई. पीड़ित अमित कुमार ने बताया कि शेखपुरा जिला निवासी राकेश कुमार के पुत्र सुमन को तेज बुखार होने के बाद इलाज के लिए पावापुरी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया था. काफी देर तक भर्ती रहने के बाद चिकित्सकों ने इलाज शुरू नही किया तो वह चिकित्सकों को बोलने गए. 

इसी बात पर डॉक्टर भड़क गए और दोनों के बीच कहासुनी होने लगी. बात इतनी बढ़ गयी कि जूनियर डॉक्टरों ने अपने अन्य सहयोगियों को बुला लिया और उसके साथ लाठी डंडे से मारपीट करने लगे. वहीँ थानाध्यक्ष प्रभा कुमारी ने कहा कि लिखित आवेदन मिलने पर कार्रवाई की जाएगी.

नालंदा से राज की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News