बिहार में जूनियर डॉक्टरों का हड़ताल दूसरे दिन भी जारी, ओपीडी में रजिस्ट्रेशन काउंटर बंद होने से मरीजों की परेशानी बढ़ी

बिहार में जूनियर डॉक्टरों का हड़ताल दूसरे दिन भी जारी, ओपीडी में  रजिस्ट्रेशन काउंटर बंद होने से मरीजों की परेशानी बढ़ी

PATNA : पीजी नीट काउंसलिंग व वेतन बढ़ोतरी को लेकर बिहार के सरकारी मेडिकल कॉलेजों के जूनियर रेसिडेंसियों ने दूसरे दिन भी अपनी हड़ताल जारी रखी है। जिसके कारण ओपीडी सेवा पूरी तरह से ठप हो गई है। बात अगर बिहार के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल पीएमसीएच की करें तो यहां जेआर के हड़ताल के कारण ओपीडी में रजिस्ट्रेशन काउंटर बंद रहा। जिसके कारण यहां इलाज के लिए मरीज काफी परेशान नजर आए। इधर जूनियर डॉक्टरों का कहना है कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होती तब तक वे काम पर वापस नहीं लौटेंगे और काम काज ठप कर धरना पर बैठे रहेंगे.

धरने पर बैठे डॉक्टरों ने पीएमसीएच प्रशासन और सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर उनके वेतन को बढ़ाने की तत्काल घोषणा नहीं हुई तो वे लोग वार्डों में इलाज को प्रभावित करा देंगे। धरने पर बैठे डॉक्टर्स ने कहा कि उन्हें अभी 15 हजार रुपये प्रतिमाह मानदेय के रूप में मिलता है. सरकार द्वारा पिछले चार वर्षों से मानदेय की समीक्षा नहीं की गई है। हड़ताल पर गए डॉक्टरों ने बताया कि आईजीआईएमएस और देश के कई अन्य मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस इंटर्न को 30 से 35 हजार रुपये से ज्यादा प्रतिमाह मानदेय मिलता है लेकिन हम लोगों को मात्र 15 हजार। इधर एमबीबीएस इंटर्न की मांगों को जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन ने भी अपना समर्थन दिया है.

बताते चलें कि नीट पीजी काउंसलिंग 2021 में देरी के खिलाफ देशभर के जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल (Junior Doctors Strike) जारी हैं. ऐसे में बुधवार को बिहार सरकार के अधीन सभी सरकारी मेडिकल कॉलेजों के जूनियर डॉक्टरों ने अस्पतालों में ओपीडी सेवा का बहिष्कार किया. हालांकि, इमरजेंसी और ऑपरेशन थिएटर में कार्य सुचारू ढंग से चल रहा है. पीएमसीएच में जूनियर डॉक्टर्स का कार्य बहिष्कार रेडियोलॉजी विभाग के बाहर जमकर प्रदर्शन किया और केंद्र सरकार के खिलाफ खूब नारेबाजी की है। 

Find Us on Facebook

Trending News