कलंक कथाः धनकुबेर इंजीनियर ने साला-ससुर तो DSP ने 'पत्नी' के नाम पर अर्जित संपत्ति को छुपाया! SVU ने अभियंता की खोली पोल, 'डीएसपी' पर भी...

कलंक कथाः धनकुबेर इंजीनियर ने साला-ससुर तो DSP ने 'पत्नी' के नाम पर अर्जित संपत्ति को छुपाया! SVU ने अभियंता की खोली पोल, 'डीएसपी' पर भी...

PATNA: बिहार के सरकारी अधिकारी नाते-रिश्तेदारों के नाम पर संपत्ति बना रहे। जांच एजेंसियों से बचने के लिए रिश्वतखोर अधिकारी यह कृत्य कर रहे हैं। मंगलवार को पटना में एक धनकुबेर इंजीनियर के ठिकानों पर जब एसवीयू ने छापेमारी की तो इस बात की पुष्टि हुई। बुडको के भ्रष्ट कार्यपालक अभियंता अनिल कुमार यादव ने रिश्वत के पैसे को छुपाने के लिए साला और ससुर के नाम पर संपत्ति का क्रय किया है. कार्यपालक अभियंता भ्रष्टाचार के पैसे को छुपाने का यही तरीका अपना रखा था. वैसे ये कार्यपालक अभियंता अकेले नहीं हैं। इस तरह के कितने ऐसे अधिकारी हैं जो अपने रिश्तेदारों के नाम पर संपत्ति अर्जित किये हैं। कुछ अफसर तो ऐसे हैं जो अपनी पत्नी के नाम पर संपत्ति अर्जित की, लेकिन उसे सरकार से छुपा लिया है। हालांकि झूठ को अधिक दिनों तक छुपाया नहीं जा सकता, परत धीर-धीरे खुल रही है। बिहार के एक डीएसपी इसी श्रेणी में हैं। चंपारण में पदस्थापित पुलिस अधिकारी ने 2014 में ही पत्नी के नाम पर जमीन की खरीद की. लेकिन उसे सरकार से छुपा लिया. संपत्ति की जानकारी नहीं देना ही अपराध है, साथ ही उस संपत्ति को अवैध कमाई की मानी जाती है। 

डीएसपी ने अवैध कमाई से अर्जित की संपत्ति?

बुडको के इंजीनियर के ठिकानों पर छापेमारी के बाद रिश्वत की कमाई की पूरी पोल खुल गई है। पता चला कि इंजीनियर ने रिश्वत के पैसे से साला और ससुर को अमीर बनाया। बिहार पुलिस के एक अधिकारी ने तो पत्नी के नाम पर ही जमीन की खरीद की। चंपारण में पदस्थापित DSP के बारे में यह खुलासा हुआ है कि उन्होंने पत्नी के नाम पर काफी संपत्ति बनाई है। जहां के वे रहने वाले हैं उसके पड़ोस वाले जिले यानी समस्तीपुर जिले में पत्नी के नाम पर एक वर्ष में ही आवासीय जमीन के दो प्लॉट की खरीद की। पहले एक प्लॉट का एग्रीमेंट कराया फिर उसी साल उस जमीन का निबंधन करा लिया। साथ ही उसी जगह पर जमीन का एक और छोटा सा टुकड़ा खऱीदा। लेकिन पत्नी के नाम पर खरीदे गये इन प्लॉट को सरकार से छुपा लिया। DSP ने 2022 में संपत्ति का ब्योरा जो सरकार को दिया है उसमें इन दो प्लॉट का जिक्र नहीं है। जबकि जमीन की खरीद 7-8 साल पहले की गई है। पुलिस अधिकारी की पत्नी के नाम पर खरीदी गई उस जमीन के बारे में थोड़ा विस्तार से बता देते हैं। जमीन समस्तीपुर जिले में 2014 में खरीदी गई। अधिकारी की पत्नी के नाम पर पहले 6 डिसमिल जमीन का एग्रीमेंट कराया गया, अगले चार महीने में ही उस जमीन की रजिस्ट्री करा ली गई। जिसका मूल्य करीब 12.50 लाख है। इसी साल एक और प्लॉट की रजिस्ट्री पुलिस अधिकारी की पत्नी के नाम पर की गई। लगभग 1 डिसमिल आवासीय प्लॉट का निबंधन सालों पहले करवाया गया। दोनों जमीन एक ही जगह पर है . पुलिस अधिकारी दारोगा से प्रमोशन पाकर डीएसपी बने हैं। वे काफी दिनों से चंपारण इलाके में पदस्थापित हैं। पति-पत्नी का टायटल भी समान है। बताया जाता है कि डीएसपी जहां पदस्थापित हैं उसके पड़ोस वाले शहर में पैतृक घर है। 

धनकुबेर इंजीनियर ने बनाई अकूत संपत्ति 

मंगलवार को विशेष निगरानी इकाई ने बताया कि बुडको में पदस्थापित कार्यपालक अभियंता अनिल कुमार यादव की अब तक की कुल आय 65 लाख है। जबकि उनके पास करोड़ों की संपत्ति का पता चला है, जो उनके ज्ञात स्रोतों से करीब 5 गुणा अधिक है. रिश्वत के पैसे से धनकुबेर बने इंजीनियर ने सिर्फ पिछले साल लगभग 400 करोड़ रुपए का टेंडर पास किया था. जिससे काफी धन कमाया . प्रारंभिक जानकारी के अनुसार अभियुक्त के बैंक खाते में लाखों रुपए मिले हैं. 35लाख रुपए के जेवरात और 2 लाख नगद मिले हैं. अभियुक्त ने बैंक चेक के माध्यम से 75 लाख रुपए का व्यय विभिन्न मदों में किया है. 9 लाख रू विभिन्न वित्तीय संस्थानों में निवेश किया है. इंजीनियर अनिल कुमार यादव अपने दोनों बेटों को इंजीनियरिंग की पढ़ाई करा रहे हैं. दोनों लड़के KIT इंजीनियरिंग में अंतिम वर्ष में पढ़ाई कर रहे हैं, जिन पर हर साल 8 लाख का खर्च आ रहा है. तलाशी के दौरान इनके पास से स्कॉर्पियो और होंडा सिटी कार के अलावे दो बाइक मिली है। विशेष निगरानी इकाई ने बुडको के कार्यपालक अभियंता अनिल कुमार यादव के खिलाफ आय से 98 लाख 41366 रुपये नाजायज ढंग से अर्जित करने का केस दर्ज किया था. इसके बाद पटना के पुनाइचक स्थित आवास और राजापुर स्थित बुडको कार्यालय में रेड किय़ा गया। अनिल कुमार यादव ने रियल स्टेट में भी काफी निवेश किया है. पटना के मनेर में काफी बड़ा भूखंड उनके नाम पर हैं, जिसको लाखों रुपए में खरीदा है. दानापुर में 2 कट्ठे का आवासीय भूखंड का मालिकाना हक इनके नाम पर है, जो करोड़ों का है. अनिसाबाद में एक सोसाइटी में प्लॉट लिया है, जिसकी कीमत करोड़ों में है. मधेपुरा में भी इनके जमीन के कागजात मिले हैं. पटना के पुनाइचक में फ्लैट है . फुलवारी शरीफ स्थित राधिका अपार्टमेंट में फ्लैट बुक किया है.

Find Us on Facebook

Trending News