कंपकंपाती ठंड में खुले में सोने को मजबूर है लोग, प्रशासन ने नहीं किया कोई इंतजाम

कंपकंपाती ठंड में खुले में सोने को मजबूर है लोग, प्रशासन ने नहीं किया कोई इंतजाम

कैमूर।  जिले में काफी ठंढ बढ़ चुकी है कोहरा भी काफी गिर रहा है उसके बावजूद गरीब तबके के लोग खुले आसमान के नीचे सो रहे हैं कुछ ऐसे गरीब जो कि पुश  की झोपड़पट्टी में अपनी गुजर बसर कर रहे है और ठंड में ठिठुर कर बिता रहे हैं  एक तरफ ठंडा अपना कहर बरसा रही है वहीं दूसरी तरफ गरीब तबके के लोग खुले आसमान और पुश की मडई में अपनी जीवन व्यतीत कर रहे हैं। 

 इस संबंध में पूछे जाने पर व्यक्ति के द्वारा बताया गया कि काफी ठंड पड़ रही है लेकिन बस स्टैंड में प्रशासन के द्वारा अलाव का व्यवस्था नहीं किया गया है ना ही किसी प्रकार का सहारा दिया जा रहा है इसी तरह लोग ठंड में अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं मोहनिया के बस स्टैंड में अलाव नहीं जल रहा है जबकि यह जगह प्रतिदिन 500 से 700 यात्री अपना यात्रा करते है यहां से कोलकाता रांची तथा बनारस पटना कि बस 24 घण्टे आती जाती रहती है यात्री को चढ़ाने आए व्यक्ति के द्वारा बताया गया कि बस स्टैंड में कोई व्यवस्था नहीं है इस संबंध में पूछे जाने पर वृद्ध साधु के द्वारा बताया गया कि कहीं कोई व्यवस्था नहीं है हम तो साधु संत हैं हमको आग का कोई जरूरत नही है यह गंभीर विषय है इतनी ठंड पड़ चुकी है लेकिन प्रशासन के द्वारा नाही कहीं अलाव जलाया जा रहा है ना ही कंबल वितरण किया जा रहा है इस संबंध में पूछे जाने पर मोहनिया अंचलाधिकारी राजीव कुमार के द्वारा बताया गया कि हमारे द्वारा चांदनी चौक स्टेसन अस्पताल परिसर में  अलाव जलाया जा रहा है।


प्रखंड विकास पदाधिकारी मनोज कुमार के द्वारा बताया गया कि 150 कंबल आया है लेकिन अभी वितरण नहीं हुआ है वितरण किया जाएगा  जैसा बरिए पदाधिकारी का आदेश होगा वितरण चालू हो जाएगा। गौर करने की बात यह है कि अधिकारी अपना पल्ला झाड़ने के लिए कहते हैं कि हमारे द्वारा ठंड का समुचित व्यवस्था किया गया है लेकिन धरातल पर लोगों के देखने के बाद पता चल रहा है कि क्या व्यवस्था किया गया है मोहनिया में स्थित भभुआ रोड स्टेशन बस स्टैंड इत्यादि जगहों पर अलाव नहीं जल रहा हैकेवल कोरम पूरा किया जा रहा है 

Find Us on Facebook

Trending News