समस्तीपुर में प्रशासन की नाक के नीचे सजी अदालत, करोड़ी समाज का ये कैसा न्याय?

समस्तीपुर में प्रशासन की नाक के नीचे सजी अदालत, करोड़ी समाज का ये कैसा न्याय?

SAMASTIPUR: बिहार के समस्तीपुर में एक अनोखी अदालत लगती है। यहां स्पेशल जज का अपना कानून चलता है। ये सब होता है प्रशासन के नाक के नीचे। 

आज के इस दौर में भी समस्तीपुर में कबीलाई संस्कृति जिंदा है। जहां उसके अपनी अदालत होती है और अपना फैसला। जिले के शंभू पट्टी में किरोड़ी समाज की जन अदालत में कई ऐसे फैसले सुनाए गए जो कबीलाई संस्कृति को याद दिलाते हैं।

भरी अदालत में महिला मुजरिम के बाल काट दिए गए और पुरुष मुजरिम को पहले खंभे में बांधा गया और बाद में उसके चेहरे पर कालिख पोत दी गई।

 घुमंतु खानाबदोश कुररियाड़ महासंघ का पांच दिवसीय सम्मेलन स्थानीय शंभू पट्टी ग्रामीण हाट परिसर में शुरू हुआ। अदालत का नेतृत्व महासंघ के अध्यक्ष बोर्ड बिहार राज्य खाद्य आयोग के पूर्व सदस्य कमल करोड़ी कर रहे थे।

समाज की ओर से चेन्नई तक जॉर्ज व पंचों के सामने मामले सुने गए। सुनवाई के दौरान कुल 7 मुजरिमों को सजा सुनाई गई उन्हें शारीरिक दंड के अलावा आर्थिक दंड भी दिया गया। मुजरिम पर 51 हजार से लेकर दो लाख के बीच जुर्माना भी लगाया गया।

Find Us on Facebook

Trending News