कटिहार के इस गाँव में आज तक नहीं पहुंची सड़क, ग्रामीण नदी पार कर इलाज कराने जाने पर मजबूर

कटिहार के इस गाँव में आज तक नहीं पहुंची सड़क, ग्रामीण नदी पार कर इलाज कराने जाने पर मजबूर

KATIHAR : किसी गांव तक या किसी के घर तक पहुंचने के लिए सड़क सम्पर्क एक मूलभूत सुविधा होता है. लेकिन विकास के इतने दावे के बीच और आजादी के इतने साल बाद भी अब तक बिहार के इस गाँव को सड़क से नहीं जोड़ा गया. लोगों को प्रखण्ड मुख्यालय तक जाने के लिए नदी तैर कर जाना पड़ता है. 

हम बात कर रहे है कटिहार के आदिवासी बहुल हसनगंज प्रखंड के सोसा गांव की. टापू नुमा इस गांव में लगभग 300 लोगों की आबादी है और इस गांव में अब तक सड़क के नाम पर कुछ भी नहीं है. इसलिए खास कर बाढ़ और बरसात के मौसम में लोगों को अपने गांव से बाहर जाने के लिए लगभग एक से डेढ़ किलोमीटर खेत के पखडण्डी में चलने के साथ साथ नदी तैर कर पार होना पड़ता है. 

सबसे खराब हालत गांव में किसी के बीमार पड़ने पर होती है, जहां लोगों को खटिया पर लादकर नदी पार करवाना पड़ता है. नगर विधानसभा क्षेत्र के विकास के बयार के दावे के बीच आदिवासी बहुल हसनगंज प्रखंड के सोसा गांव का जमीनी हकीकत ये बताने के लिए काफी है कि आज भी देश के मूल निवासियों के सुविधा को लेकर सरकार और प्रशासन कितना जागरूक  है. 

वही आदिवासी बहुल इस इलाके के लोग अब इसे अपनी नियति मान चुके है. उन लोगो की माने तो सरकार और प्रशासन ने इस इलाके के लिए कुछ किया ही नही है. 

कटिहार से श्याम की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News