हिंदी में कविता संग्रह के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार पाने वाली देश की पहली महिला बनी बिहार की अनामिका

हिंदी में कविता संग्रह के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार पाने वाली देश की पहली महिला बनी बिहार की अनामिका

पटना/नई दिल्ली। साहित्य के क्षेत्र में बिहार ने फिर अपना परचम लहराया है। शुक्रवार को साहित्य अकाडमी द्वारा 20 भाषाओं में अपने पुरस्कार की घोषणा की है। जिसमें एक नाम सबसे खास बन गया है। वह है मुजफ्फरपुर की रहनेवाली अनामिका का। उन्हें हिंदी में कविता संग्रह के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार दिया गया है। यह पुरस्कार इसलिए भी खास बन जाता है क्योंकि हिंदी कविता संग्रह के लिए पुरस्कार पाने वाली वह देश की पहली महिला हैं। अनामिका के साथ मधुबनी के रहने वाले प्रसिद्ध साहित्यकार कमलकांत झा को भी वर्ष 2020 के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला है। साथ ही उर्दू साहित्यकार हुसैन उल हक को उर्दू उपन्यास अमावस में ख्वाब के लिए सम्मानित किया गया है।

कविता संग्रह टोकरी के लिए अनामिका को पुरस्कार

बिहार के मुजफ्फरपुर की रहने वाली अनामिका को यह सम्मान उनकी हिंदी कविता संग्रह टोकरी में दिगंत - थेरीगाथा के लिए दिया गया है। कविता संग्रह 'टोकरी में दिगन्त' 2014 में प्रकाशित हुआ था। बता दें कि 1961 में जन्मी अनामिका दिल्ली विश्वविद्यालय के सत्यवती कॉलेज में अंगेजी की प्राध्यापिका हैं। उन्होंने कविता के साथ उपन्यास और कहानियां भी लिखी हैं। आपको यह भी बता दें कि ये बिहार की तीसरी और देश की पहली साहित्यकार हैं जिन्हे हिंदी के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला है।

गाछ रूसल अछि के लिए मिला सम्मान

वहीं बिहार के ही मधुबनी के रहने वाले कमलकांत झा को मैथिली के लिए 2020 का साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला है। उन्हें उनकी रचना ‘गाछ रूसल अछि’ के लिए यह सम्मान दिया गया है है। बता दें साहित्य अकादमी द्वारा हर साल मनाया जाने वाला साहित्योत्सव इस इस साल 12 से 14 मार्च तक आयोजित किया जा रहा है। बिहार के दो लोगों को साहित्य अकादमी पुरस्कार मिलना पूरे प्रदेश के लिए गौरव की बात है। 

बता दें कि यह पुरस्कार 1 जनवरी 2014 से 31 दिसम्बर 2018 के दौरान पहली बार प्रकाशित पुस्तकों पर दिया गया है। साहित्य अकादमी चयन समिति में शामिल 18 भारतीय भाषाओं के साहित्यकारों ने साहित्य अकादमी के अध्यक्ष डॉ चंद्रशेखर कंबार की अध्यक्षता में इन पुरस्कारों की घोषणा की है।

सीएम ने दी बधाई

इन साहित्यकारों को पुरस्कार मिलने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुशी जाहिर करते हुए उन्हे अपनी शुभकामनाएं दी हैं। नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार की बेटी के हिंदी का सर्वोच्च सम्मान मिलना बिहार के लिए गौरव और देश की आधी आबादी को प्रेरणा प्रदान करेगा। इसके अलावा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उर्दू साहित्यकार हुसैन उल हक को भी साहित्य अकादमी पुरस्कार मिलने पर अपनी शुभकामनाएं दी है। उर्दू साहित्यकार हुसैन उल हक को उर्दू उपन्यास अमावस में ख्वाब के लिए सम्मानित किया गया है। नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार के तीन साहित्यकारों को साहित्य अकादमी पुरस्कार का मिलना गौरव की बात है




Find Us on Facebook

Trending News