तीन सालों में 4 लाख से अधिक किसानों को आत्मा योजना के माध्यम से किया गया प्रशिक्षित – कृषि मंत्री

तीन सालों में 4 लाख से अधिक किसानों को आत्मा योजना के माध्यम से किया गया प्रशिक्षित – कृषि मंत्री

GAYA : बिहार सरकार के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने गया परिसदन से भागलपुर, गोपालगंज एवं पूर्वी चम्पारण के जिला कृषि पदाधिकारियों, परियोजना निदेशक, आत्मा, उप परियोजना निदेशकों, सहायक निदेशक, उद्यान, सहायक निदेशक, पौधा संरक्षण, सहायक निदेशक, रसायन, सहायक निदेशक, कृषि अभियंत्रण की उपस्थिति में आत्मा योजना अन्तर्गत किसान पुरस्कार से सम्मानित किसानों के प्रमाण पत्र, नव नियुक्त प्रखण्ड तकनीकी प्रबन्धक, सहायक तकनीकी प्रबन्धक को नियोजन पत्र, किसान सलाहकार समितियों के गठन का पत्र, इनपुट उपादान आपूर्तीकर्ताओं के कार्यक्रम का प्रमाणपत्र का ऑनलाईन वितरण किया. 

कार्यक्रम को संबोधित करते हुये मंत्री ने कहा कि 2007 में अंतिम बार किसानों को उनके उत्कृष्ट कार्य के लिये सम्मानित किया गया था. उनके द्वारा एक बार फिर से किसानों को सम्मानित करने की योजना का क्रियान्वयन प्रारम्भ कराया गया है. प्रखण्ड स्तर पर धान, गेहॅू, आलू, डेयरी एवं मत्स्यपालन के क्षेत्र ‘किसान श्री’ पुरस्कार से, जिला स्तर पर किसान गौरव एवं राज्य स्तर पर किसान श्रेष्ठ से पुरस्कृत किया जा रहा है. आज पूर्वी चम्पारण के 15 किसानों को आलू के क्षेत्र में किसान श्री, 02 किसानों को मत्स्यपालन के लिये किसान श्री एवं 14 किसानों को गेंहूँ के लिये किसान श्री सम्मान से सम्मानित किया गया है. 

इसके अतिरिक्त 27 किसान सलाहकार समितियों को गठन का पत्र एवं 05 प्रखण्ड तकनीकी प्रबन्धकों को नियोजन पत्र का वितरण किया गया है. गोपालगंज के 12 उपादान विक्रेताओं को देशी कार्यक्रम के प्रमाणपत्र दिये गये एवं भागलपुर के 05 किसान हितार्थ समूह एवं 02 महिला खाद्य सुरक्षा समूह को गठन का प्रमाणपत्र को वितरित किया गया.

प्रेम कुमार ने कहा कि उन्होने पिछले तीन वर्षो में आत्मा योजना के माध्यम से 04 लाख 06 हजार 310 किसानों को प्रशिक्षित कराया है. 2204 प्रसार कर्मियों को बामेती से प्रशिक्षित कराया है. 02 लाख 34 हजार 942 किसानों को परिभ्रणम पर भेजा गया. 5432 युवक/युवतियों को कौशल प्रशिक्षण कराया गया. 33250 किसान चौपाल का आयोजन हुआ. जिसमें 09 लाख 97 हजार 561 किसानों ने भाग लिया. 16296 उपादान विक्रेताओं को प्रशिक्षित किया गया है. किसानों एवं कृषि से जुडे़ सभी अंगों को प्रोत्साहित करने से राज्य को 05 बार कृषि कर्मण पुरस्कार प्राप्त हुआ है.

Find Us on Facebook

Trending News