चुनाव में किशनगंज के छात्रों ने भी खोला मोर्चा, 10वीं के आगे की पढ़ाई व्यवस्था नहीं होने के कारण वोट मांगने वालों से नाराज हैं छात्र-छात्राएं

चुनाव में किशनगंज के छात्रों ने भी खोला मोर्चा, 10वीं के आगे की पढ़ाई व्यवस्था नहीं होने के कारण वोट मांगने वालों से नाराज हैं छात्र-छात्राएं

किशनगंज... बिहार विधानसभा चुनाव का मौहोल है। नेता अपना काम गिना रहे हैं तो विपक्ष नाकामियों पर सवाल खड़े कर रही है। कहीं जनता अपने नेता से नाराज हैं तो कहीं खुश, लेकिन इस सब के बीच छात्रों का एक समूह जो नेताओं से खासा नाराज है। उनके नाराजगी का कारण क्षेत्र में शिक्षा की बदहाली है। उनका कहना है कि अगर यहां के नेताओं ने किसी को ठगा है तो सबसे ज्यादा छात्र-छात्राओं को ठगा है। यहां 10वीं और इसके बाद की पढ़ाई किसी भी इंटर काॅलेज में नियमित रूप से नहीं होती है। प्राइवेट ट्यूशन के भरोसे यहां के छात्र-छात्राएं की पढ़ाई करते हैं। यहां तक कि गरीब बच्चे तो फीस के कारण पढ़ाई तक छोड़ देते है। 


गरीबी एंव विषय अनुसार प्राइवेट ट्यूशन फीस नहीं पूरा करने का कारण साइंस के इक्छुक छात्र को आर्ट्स पढ़ना पड़ता है तो कॉमर्स को आर्ट्स या साइंस। यही नहीं पूरे जिले में दो ही सरकारी ग्रेजुएशन की कॉलेज है। पूरे जिले में एक भी पोस्टग्रेजुएट की कॉलेज नहीं है। शिक्षा की ऐसी व्यवस्था से यहां के छात्र-छात्राएं नेताओं और सरकार से भी अपने आप को ठगा महसूस करते हैं।


Find Us on Facebook

Trending News