गया के जी.डी गोयनका स्कूल ने पार की हैवानियत की हदें, पैसे के लिए मासूमों पर जुल्म, न्यूज फॉर नेशन से कहा-खबर मत चलाइये

GAYA: गया में शिक्षा के नाम पर पैसा कमाने की दुकान चला रहे धंधेबाजों का बर्बर चेहरा सामने आया है. जी डी गोयनका स्कूल में अवैध पैसे की उगाही के लिए मासूम बच्चों पर बर्बर तरीके से जुल्म ढ़ाया गया है. हैवानियत के शिकार बने कई बच्चों को डॉक्टर के पास ले जाना प़ड़ा है तो कई बच्चों ने स्कूल जाना छोड़ दिया है. इस बेहद गंभीर मामले की शिकायत मिलने के बाद गया के सदर SDO ने स्कूल प्रशासन को नोटिस जारी किया है.

मासूमों पर जुल्म की इंतेहा

गया के सदर SDO ने जी डी गोयनका स्कूल को नोटिस जारी किया है. SDO की नोटिस के मुताबिक उन्हें G D GOENKA स्कूल में पढ़ रहे बच्चों के अभिभावकों से शिकायत मिली है. इसके मुताबिक स्कूल ने बच्चों पर Annual Fee, Development Fee के नाम पर पैसा वसूली करना शुरू किया. कई बच्चों के अभिभावकों ने स्कूल की इस अवैध वसूली पर एतराज जताया और पैसे देने से मना कर दिये. इसके बाद मासूमों पर जुल्म का सिलसिला शुरू हुआ. जिस बच्चे ने पैसे देने से इंकार किये उसके साथ हैवानियत की गयी. कई बच्चों को परीक्षा देने से रोक दिया गया. कई बच्चों को इस कदर प्रताड़ित किया गया कि उन्हें इलाज के लिए डॉक्टर के पास ले जाना पड़ा. अब आलम ये है बच्चे स्कूल जाने को तैयार नहीं है. SDO ने अपने पत्र में कहा है कि ये आपराधिक मामला है. इसके साथ ही ये शिक्षा के अधिकार कानून का गंभीर उल्लंघन है. अनुमंडल पदाधिकारी ने स्कूल संचालकों से दो दिनों में जबाव मांगा है कि क्यों नही उनके खिलाफ कार्रवाई की जाये.

क्या कहता है कानून

शिक्षा के अधिकार कानून की धारा 17 के मुताबिक बच्चे को स्कूल में कतई प्रताड़ित नहीं किया जा सकता है. उसे कोई शारीरिक दंड नहीं दिया जा सकता और ना ही मानसिक तौर पर प्रताड़ित किया जा सकता. इस धारा का उल्लंघन करने वाले स्कूल की मान्यता रद्द करने के साथ ही आपराधिक मुकदमा भी चलाया जा सकता है.

स्कूल ने कहा-खबर मत चलाइये

हमने इस बाबत जी डी गोयनका स्कूल के प्रशासक सुरजीत सिंह से बात की तो उन्होंने खबर नहीं चलाने को कहा. सुरजीत सिंह ने कहा कि उन्हें SDO का पत्र नहीं मिला है लेकिन उन्होंने इसका जबाव तैयार करा लिया है. स्कूल के प्रशासक ने कहा कि उन पर लगे तमाम आरोप गलत हैं.

Find Us on Facebook

Trending News