जिला परिषद सदस्य के हनक के सामने एसपी साहेब मौन, कुर्की के आदेश के बाद भी केवल आश्वासन

सीवान- 10 जून 2018 को अपराधियों ने खुल्मखुले गुठनी के पूर्व उपप्रमुख अवध सिंह के भतीजे और निजी विद्यालय के संचालक संदीप सिंह को अपराधियों ने स्कूल परिसर में सोते समय गोली मार कर हत्या कर दी थी. 3 महीने निकल गए लेकिन पुलिस के हाथ अब तक खाली हैं. कोर्ट से कुर्की का आदेश भी हो चुका है लेकिन परिवार वालों का कहना है कि इस हत्याकांड में मुख्य आरोप समरजीत सिंह जिला परिषद का सदस्य है और इलाके में उसकी बहुत तेज हवा है, बड़े नेताओं के साथ उठना बैठना है. इसलिए अबतक कुर्की नहीं हो पाई है. परिवार वाले एसपी नवीन चंद्र झा से कई बार गुहार लगा चुके हैं.


 सीएम और डीजीपी से भी लगा चुके हैं गुहार
संदीप के परिवार वालों का दावा है कि उन्होंने सूबे के सीएम नीतीश कुमार और डीजीपी से भी न्याय की गुहार लगाई लेकिन अबतक कोई कार्रवाई नहीं हुई है. बार बार इन्हें सीवान की पुलिस जल्द कार्रवाई करने का आश्वासन देकर टहला दिया जाता है.
 
 कुर्की के आदेश के बाद भी नहीं हो रही कार्रवाई

इस हत्या कांड में परिजनों ने जिला परिषद सदस्य समरजीत सिंह, गांव के ही धन्नू सिंह, संजीव पांडेय और नवीन पांडेय के अलावे दो अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवा था.जिसमे दो आरोपियों ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था.लेकिन बाकी आरोपियों को पुलिस अबतक टच भी नहीं कर पाई है. संदीप के परिजनों का यह आरोप है कि कोर्ट से कुर्की जब्ती का आदेश है लेकिन पुलिस मामले को दबाने के लिए कुर्की नहीं कर रही है. साथ ही परिवार वालों यह भी आरोप है कि बार बार उनपर केस वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा है.

 न्याय नहीं मिला तो कर लूंगी सुसाइड

मृतक संदीप की पत्नी पुलिस की ऐसी कार्रवाई से आजीज आ चुकी है. अब संदीप की पत्नी सिस्टम से लड़ते लड़ते थक गई है, वो अपने पति के हत्यारों के खिलाफ कार्रवाई चाहती है. संदीप की पत्नी का कहना है कि न्याय नहीं मिला तो मैं सुसाइड कर लूंगी.

Find Us on Facebook

Trending News