यहाँ बाढ़ आते ही महिलाएं संभाल लेती हैं बचाव कार्य मोर्चा

यहाँ बाढ़ आते ही महिलाएं संभाल लेती हैं बचाव कार्य मोर्चा

N4N Desk: इस साल बाढ़ से पूरा प्रदेश ग्रसित रहा, देश के विभिन्न राज्यों में भी बाढ़ का कहर रहा. केरला भी तक बाढ़ से लड़ रहा है. बिहार के खगड़िया जिले के सुदूर गावों में भीषण बाढ़ आने पर राहत कार्य की ज़िम्मेदारी 300 महिलाएं संभालती हैं. कोसी,बागमती और मालती नदी के कारण आयी बाढ़ से ये 300 महिलाएं लोगों को बचाने का साहस करती हैं. 

नदी में गोता लगाकर ये महिलाएं फंसे लोगों को बचाती हैं और उन्हें किसी सुरक्षित जगह पर लेकर जाती हैं. गावों में वे पशुचारा भी पहुंचाती। बाढ़ की स्थिति गंभीर होने पर वे तुरंत बाढ़ग्रस्त स्थान पर पहुँच जाती है और बचाव कार्य में जुड़ जाती हैं. इस टोली में जिले के 20 गावों की 300 महिलाएं शामिल हैं. सारी महिलाएं ट्रेनड तैराक है, बचाव कार्य में इन्हें 10 साल का अनुभव है.

किसान विकास ट्रस्ट ने इस दल को तैयार किया था जिसके बाद से वे साल 2012 के बाद से लगातर इस नेक कार्य में जुड़ी हुई हैं. बाढ़ के दौरान ये महिलाएं न केवल लोगों को बचाती है बल्कि उन्हें रहात सामान भी पहुंचाती हैं. वे समय-समय पर लाइफ जैकेट पहनकर तैराकी का अभ्यास करती रहती हैं. इनके इस कार्य से स्थानीय लोगों को काफी मदद मिल जाती है  


Find Us on Facebook

Trending News