84 साल में पहली बार कोरोना की वजह से नहीं सजेगा लालबाग के राजा का दरबार

84 साल में पहली बार कोरोना की वजह से नहीं सजेगा लालबाग के राजा का दरबार

DESK: देश में बढ़ते कोरोना वायरस  के संक्रमण के बीच अब इसका असर देश के सभी त्योहारों पर पड़ा है. विश्वप्रसिद्ध मुंबई गणेश पूजा के पर कोरोना का ग्रहण लग गया है. कोरोना के चलते मुंबई के अनेक गणेशोत्सव मंडल ने छोटे आकार की मूर्तियों की प्रतिस्थापना करने का निर्णय लिया है. वहीं मुंबई के सबसे प्रसिद्ध और लोकप्रिय गणेश मंडल लालबाग का राजा ने इस बार गणेशोत्सव नहीं मनाने का निर्णय लिया है.


 कोरोना संकटकाल के दौरान गणेशोत्सव पर निर्णय लेने के लिए मंडल की बैठक की गई है जिसमें ये एकमत से ये निर्णय लिया गया है कि इस बार राजा की मूर्ति की प्रतिस्थापना नहीं की जायेगी.  ये जानकारी मंडल के सुधील सालवी ने दी है. इस बार गणेशोत्सव नहीं होने से देश भर से लालबाग का राजा का दर्शन करने के आने वाले करोड़ों श्रद्धालुओं को अगले साल का इंतजार करना होगा. 


 लाल बाग़ का राजा गणेश मंडल की तरफ से इस बार 11 दिनों की गणपति बप्पा की मर्ति प्रतिस्थापित करने की बजाय 11 दिनों तक रक्तदान शिविर और प्लाज्मा थेरेपी का कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया है. महाराष्ट्र इस समय देश का सबसे ज्यादा संक्रमित प्रदेश है और यहां कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इस संकट को ध्यान में रखते हुए मंडल ने ये महत्वपूर्ण निर्णय लिया है.
 
 लालबाग का राजा मन्नत पूरी करने वाले गणेशजी के रूप में विश्व भर में प्रसिद्ध है. लोकसत्ता में छपी खबर के मुताबिक पिछले 86 सालों से लालबाग मार्केट में राजा की मूर्ति की प्रतिस्थापना की जाती है.कई सालों से महाराष्ट्र का कोने-कोने से 14 फुट ऊंची गणेशमूर्ति के दर्शन के लिए बड़ी संख्या में लोग लालबाग आते हैं। परंतु कोरोना संकट को देखते हुए इस बार मूर्ति प्रतिस्थापित नहीं करने का फैसला किया गया है.

Find Us on Facebook

Trending News