रिंटू सिंह हत्याकांड में मंत्री लेसी सिंह के बचाव में आये ललन सिंह, तेजस्वी पर जमकर बोला हमला

रिंटू सिंह हत्याकांड में मंत्री लेसी सिंह के बचाव में आये ललन सिंह, तेजस्वी पर जमकर बोला हमला

पटना. पूर्णिया में निर्वाचित जिला पार्षद के पति रिंटू सिंह हत्याकांड में नीतीश सरकार में मंत्री और जदयू नेत्री लेसी सिंह के भतिजे का नाम आने के बाद बिहार में राजनीति शुरू हो गयी है. इसको लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव लगातार नीतीश सरकार पर हमला बोला है. इस बीच जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने तेजस्वी पर पलटवार किया है. साथ ही ललन सिंह ने मामले को लेकर लेसी सिंह का भी बचाव भी किया है.

इस दौरान जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने तेजस्वी यादव पर हमला बोलते हुए कहा है कि तेजस्वी यादव विरोधी दल के नेता है और विरोधी दल के नेता का काम सरकार पर आरोप लगाना है. उन्होंने कहा कि बिहार से तेजस्वी को कोई मतलब नहीं है. तेजस्वी प्रवास पर गए थे प्रवास से वापस आए हैं. कुछ बोलेंगे फिर प्रवास पर चले जाएंगे. ललन सिंह ने कहा कि तेजस्वी बोलते रहे और सरकार अपना काम करती रहेगी.


ललन सिंह ने कहा कि इस मामले में लेसी सिंह को लेकर मैंने भी खबर पढ़ी. उस घटना में जांच का काम पुलिस का है. जिनके पास कुछ साक्ष्य है, वह आरोप लगाने के बजाय पुलिस को साक्ष उपलब्ध कराएं. जांच का काम सरकार का नहीं बल्कि पुलिस का है और पुलिस अपना काम कर रही है.

ललन सिंह ने कहा कि नीतीश कुमार ने अपने पूरे शासनकाल में कभी भी पुलिस के काम में हस्तक्षेप नहीं किया है. बिहार में कानून का राज है. ना किसी को बचाया जाता है और ना किसी को फंसाया जाता है. बचाने और फंसाने का काम तेजस्वी यादव की माता और पिता के राजकाज में होता था. इसलिए तेजस्वी यादव को वही बात समझ में आ रही है.

वहीं रिंटू सिंह हत्याकांड में नाम आने पर मंत्री लेशी सिंह ने कहा कि रिंटू सिंह की हत्या में नाम आने से मैं स्तब्ध हूं. मेरा नाम इसमें घसीटा गया है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नाम भरोसे का है, उन पर आरोप लगाना ठीक नहीं है. हमें राजनीतिक साजिश के तहत फंसाया जा रहा है. पुलिस मामले की जांच कर रही है, सब सामने आ जायेगा.

लेसी सिंह ने कहा कि हमने 20 साल पहले गांव छोड़ दिया, गांव की राजनीति से हमारा कोई मतलब नहीं है. हमारी सरकार किसी को फंसती और बचाती नहीं है. तेजस्वी यादव के आरोप पर कहा कि भरोसे का नाम नीतीश कुमार है. जब तेजस्वी यादव पर आरोप लगा था, तो क्या उन्हें जेल भेज दिया गया. अगर हमारे इस्तीफे की मांग कर रहे, तो पहले उनको नेता प्रतिपक्ष पद से इस्तीफा देना चाहिए.


Find Us on Facebook

Trending News