लालू से तेजस्वी की मुलाकात नहीं होने पर गरमाई सियासत, बीजेपी और कांग्रेस हुए आमने-सामने

लालू से तेजस्वी की मुलाकात नहीं होने पर गरमाई सियासत, बीजेपी और कांग्रेस हुए आमने-सामने

PATNA : शनिवार को तेजस्वी यादव अपने पिता राजद सुप्रीमो लालू यादव से मिलने रांची पहुंचे। लेकिन शाम के पांच बज जाने और मुलाकात का वक्त खत्म होने की वजह से उन्हें लालू प्रसाद से मिलने से रोक दिया गया। 

तेजस्वी को मुलाकात करने से रोकने के बाद प्रदेश की सियासत गरमा गई है। विपक्ष ने जहां इसे बीजेपी का साजिश करार दिया है। वहीं सत्तासीन पार्टी ने इसे प्रोटोकाल बताते हुए विपक्ष पर वेवजह का आरोप और हो-हंगामा करार दिया है। 

कल मुलाकात से रोकने के बाद जहां तेजस्वी यादव ने इसे बीजेपी की साजिश और पिता लालू प्रसाद को बेवजह प्रताड़ित करने का आरोप लगाय है। वहीं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा भी तेजस्वी के पक्ष में आ गए है। 

उन्होंने इसे मानवता का हनन बताते हुए कहा है कि एक बीमार पिता से पुत्र को नहीं मिलने देना मानवता के खिलाफ है। तेजस्वी यादव अपने बीमार पिता से मिलने गए थे। उन्हें लालू यादव से मिलने से रोकना कही से उचित नहीं है। सजायफ्ता बीमार व्यक्ति से मानवता के आधार पर परिवार के सदस्य को मिलने से नहीं रोका जा सकता। 

इधर इस पूरे प्रकरण और बीजेपी को आरोपी बनाए जाने पर बिहार प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा है कि यह मामला पूरी तरह से प्रोटोकाल का है। जेल मैन्यूल के अनुसार कैदी से मुलाकात का समय तय है। समय सीमा के खत्म होने के बाद मुलाकात की अनुमति नहीं दी जा सकती है। विक्षक्ष का आरोप पूरी तरह से निराधार है।    

Find Us on Facebook

Trending News