दरभंगा एयरपोर्ट पर कोहरे में भी होगी विमानों की लैंडिंग, एजीएल लगाने का काम अंतिम चरण में

दरभंगा एयरपोर्ट पर कोहरे में भी होगी विमानों की लैंडिंग, एजीएल लगाने का काम अंतिम चरण में

DARBHANGA : यात्रियों के मामले में रिकॉर्ड तोड़ सफलता अर्जित करने वाले दरभंगा एयरपोर्ट पर ठंड के दिनों में काफी समस्या उत्पन्न होती है. एरोड्रम ग्राउंड लाइटिंग सिस्टम (एजीएल) नहीं होने की वजह से कम कोहरे में ही फ्लाइट रद्द कर दी जाती हैं. लेकिन इस बार ठंड में इस समस्या से दरभंगा एयरपोर्ट के यात्रियों को निजात मिलने की संभावना है. एयरपोर्ट पर एजीएल लगाने का काम अंतिम चरण में है.

दरभंगा एयरपोर्ट के विस्तार के लिए 336.76 करोड़ मंजूर किये गए हैं, लेकिन जमीन के मुआवजे की दर से किसान खुश नहीं हैं. दरभंगा एयरपोर्ट के निदेशक मनीष कुमार ने कहा कि अमूमन ठंड में सभी एयरपोर्ट पर फ्लाइट कैंसिल होने की समस्या आती है, लेकिन दरभंगा एयरपोर्ट पर एरोड्रम ग्राउंड लाइटिंग सिस्टम यानि एजीएल नहीं होने की वजह से यह समस्या ज्यादा होती है. हालाँकि एयरपोर्ट पर एजीएल लगाने का काम अंतिम चरण में है और उम्मीद की जा रही है कि 15 जनवरी तक इसे इंस्टॉल कर लिया जाएगा. दो चरण में एजीएल का काम शुरू हुआ था जिसका पहला चरण पूरा हो चुका है. एजीएल लग जाने के बाद पिछले साल की तुलना में दरभंगा एयरपोर्ट पर कम फ्लाइट कैंसिल होगी. मनीष कुमार ने बताया कि फ्लाइट अगर कैंसिल होगी तो उसकी सूचना विमानन कंपनियां पहले यात्रियों को दे सकेंगी. अभी दरभंगा एयरपोर्ट का टर्मिनल एयरफोर्स की जमीन पर अस्थायी तौर पर बना है. राज्य सरकार से जब 78 एकड़ जमीन एयरपोर्ट को मिल जाएगी तो यहां की सभी समस्याओं को दूर कर लिया जाएगा.

बता दें कि दरभंगा एयरपोर्ट 8 नवंबर 2020 को शुरू हुआ था. उड़ान योजना के तहत यहां से स्पाइसजेट ने सबसे पहले दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु के लिए सीधी फ्लाइट शुरू की थी. लेकिन 2021 के जनवरी-फरवरी महीने में इस एयरपोर्ट से कम कोहरे में ही लगातार बड़ी संख्या में फ्लाइट कैंसिल हुई थी. इसकी वजह से लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी थी. इस एयरपोर्ट पर उत्तर बिहार के 14-15 जिलों के अलावा नेपाल से भी यात्री आते हैं. यात्रियों को परेशानी न हो इसके लिए एयरपोर्ट पर एजीएल लगना बेहद जरूरी है.

दरभंगा से वरुण ठाकुर की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News