बीजेपी नेत्रियों के सम्मान से खेलते हैं नेता ! एकबार फिर सेे पार्टी की नेत्री के सम्मान से खेला, पहले भी BJP नेत्रियों के बारे में नेताओं ने की है गंदी बात...मोबाईल पर भेजे हैं अश्लील वीडियो

बीजेपी नेत्रियों के सम्मान से खेलते हैं नेता ! एकबार फिर सेे पार्टी की नेत्री के सम्मान से खेला, पहले भी BJP नेत्रियों के बारे में नेताओं ने की है गंदी बात...मोबाईल पर भेजे हैं अश्लील वीडियो

PATNA: बिहार बीजेपी में महिलाओं का सम्मान नहीं होता. पार्टी की नेत्रियों के सम्मान के साथ हमेशा खिलवाड़ किया जाता रहा है। पिछले एक-दो सालों में कई ऐसी घटनायें हुई हैं जिससे इस बात की पुष्टि होती है कि बीजेपी के नेता अपनी पार्टी की नेत्रियों को किस भावना से देखते हैं. बीजेपी नेत्रियों के अपमान या सम्मान को ठेस पहुंचाने की बात शेखपुरा की हो या सीतामढ़ी की या फिर दरभंगा की।हर जगह महिलाओं को अपमानित किया गया है. अब एक नया मामला वैशाली से आया है, जहां बीजेपी की एक नेत्री के सम्मान को पार्टी के जिलाध्यक्ष ने ही ठेस पहुंचाई है। बीजेपी की प्रदेश कार्यसमिति सदस्या ने महिला होने का दर्द और अपमान की बात फेसबुक पर साझा की है.

वैशाली की नेत्री प्रियदर्शनी दुबे का गंभीर आरोप  

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य प्रियदर्शनी दुबे ने वैशाली बीजेपी अध्यक्ष पर गंभीर आरोप लगाया है और अपनी ही पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. उन्होंने अपनी भड़ास सोशल मीडिया के माध्यम  से निकाली है. प्रियदर्शनी दुबे ने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा, ‘मेरे मोदी जी तो महिलाओं का सम्मान करते हैं, लेकिन भाजपा वैशाली महिलाओं के सम्मान से खेलती है. अब बहुत हो गया; अब नहीं’. जिसके बाद जिला सहित प्रदेश में भी राजनीतिक का पारा चढ़ गया है.

बीजेपी जिलाध्यक्ष ने किया बेईज्जत! 

प्रदेश कार्यसमिति सदस्य सह वैशाली जिले की ‘बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ’ संयोजक सह नवादा जिला की महिला प्रकोष्ठ प्रभारी प्रियदर्शनी दुबे ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट किया है. यही नहीं अपने पोस्ट में उन्होंने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय और बिहार भारतीय जनता पार्टी के प्रभारी भिखू भाई दलसानिया को भी टैग किया है. प्रियदर्शनी दुबे का आरोप है कि वैशाली जिलाध्यक्ष प्रेम सिंह कुशवाहा ने उनके साथ बदसलूकी की है. हाजीपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में प्रेम सिंह कुशवाहा ने उनकी बेइज्जती करते हुए कहा कि इसे किसने बुलाया है इसे नहीं बुलाया जाना चाहिए. इसी बात पर नाराज होकर प्रदर्शनी दुबे ने सोशल मीडिया पर अपनी ही पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.वैशाली जिलाध्यक्ष प्रेम सिंह कुशवाहा ने कहा है कि उन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं कहा है.



दरभंगा की बीजेपी नेत्री के मोबाईल पर नेताजी ने भेजा था अश्लील वीडियो 

अब पुरानी बातों को याद करा देते हैं. पिछले सालों में पार्टी से जुड़ी महिलाओं के मोबाईल पर अश्लील वीडियो भेजे गये. नेत्रियों के बारे में अमर्यादित और अश्लील बातें कही गई। हालांकि पार्टी से नेत्रियों ने गहरी आपत्ति भी दर्ज की. कई नेताओं को माफी भी मांगनी पड़ी. एक के खिलाफ तो एक नेत्री ने थाने में केस भी दर्ज कराई थी। एक मामले में नेताजी पर कार्रवाई भी हुई। दरभंगा की एक नेत्री के व्हाट्सअप्प पर एक नेताजी द्वारा अश्लील वीडियो भेजा गया था। वीडियो ऐसा है कि देखने में भी शर्म महसूस हो रही थी.  तब दरभंगा की नेत्री ने प्रदेश नेतृत्व को पत्र लिख कार्रवाई की मांग की थी। महिला ने बीजेपी प्रदेश नेतृत्व से पूछा था कि क्या महिलाओं की इज्जत नहीं होती है?अगर होती है तो न्याय चाहिए. विवाद बढ़ने के बाद दरभंगा के नेताजी ने महिला से माफी मांगी थी। 

सीतामढ़ी में एक गालीबाज नेता का ऑडियो हुआ था वायरल

सीतामढ़ी में भाजपा जिला अध्यक्ष सुबोध कुमार सिंह व पार्टी की एक नेत्री जो महामंत्री के पद पर हैं उनके बारे में अपशब्द और आपत्तिजनक शब्द का प्रयोग किया गया था। महिला नेत्री के बारे में गंदी और अमर्यादित बात  कहते दो नेताओं का ऑडियो वायरल हुआ था. इसके बाद इस मामले में  महिला नेत्री की तरफ से भाजपा नेता के खिलाफ केस भी दर्ज कराया गया था। वायरल ऑडियो में बीजेपी सैनिक प्रकोष्ठ के प्रदेश पदाधिकारी व एक अन्य नेता के बीच बातचीत थी. बीजेपी सैनिक प्रकोष्ठ वाले नेताजी ने फोन पर बातचीत करते हुए कहते हैं कि भाजपा जिला अध्यक्ष सुबोध कुमार सिंह व पार्टी की एक नेत्री के बीच अवैध संबंध है . महिला नेत्री का वही धंधा है . इसके साथ ही गाली-गलौच एवं कई अन्य सनसनीखेज आरोप लगाए गए थे. महिला ने उक्त नेताजी के खिलाफ प्रदेश नेतृत्व से शिकायत की थी. लेकिन प्रदेश नेतृत्व ने कोई कार्रवाई नहीं की। 

शेखपुरा के तत्कालीन जिलाध्यक्ष ने नेत्री के बारे में बोले थे अपशब्द

शेखपुरा के तत्कालीन जिलाध्यक्ष ने उसी इलाके की एक महिला नेत्री के बारे में फोन पर अपशब्दों का प्रयोग किया था। वीडियो वायरल होने के बाद विवाद काफी बढ़ा था। इसके बाद प्रदेश नेतृत्व ने नेत्री के खिलाफ अपशब्दों का प्रयोग करने वाले जिलाध्यक्ष को पद से हटा दिया था. 


 

Find Us on Facebook

Trending News