नशे में धूत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी को छोड़ना थानाध्यक्ष को पड़ा महंगा, एसपी ने किया निलंबित

नशे में धूत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी को छोड़ना थानाध्यक्ष को पड़ा महंगा, एसपी ने किया निलंबित

SASARAM : सासाराम के नगर थाना के थानाध्यक्ष कामाख्या नारायण सिंह पर स्वास्थ्य विभाग के एक पियक्कड़ अफसर को छोड़ देने के आरोप में कार्रवाई हुई है. बताया जाता है कि 23 दिसंबर को स्वास्थ्य विभाग का एक बड़ा अधिकारी सासाराम के सदर अस्पताल के निरीक्षण में आया था. उसके बाद सासाराम के ही एक निजी होटल में अधिकारी अपने कुछ परिचितों के साथ रुके थे. पुलिस को सूचना मिली कि नगर थाना क्षेत्र के पुरानी जीटी रोड पर स्थित एक बड़े रेजिडेंशियल होटल में कुछ लोग शराब के नशे में है. 

नगर थाना की पुलिस ने छापेमारी की तो वहां से कुछ लोग शराब के नशे में मिले. लेकिन जब पता चला कि शराब पिए हुए लोगों के साथ स्वास्थ्य विभाग का एक बड़ा अधिकारी भी साथ है. जिसके बाद पुलिस थोड़ी देर के लिए बैकफुट पर चली गई. आरोप है कि इस दौरान पटना से लेकर सासाराम तक के कई बड़े अधिकारियों और नेताओं की पैरवी थानेदार तक पहुंचने लगी. बड़े अधिकारियों की पैरवी पर थानाध्यक्ष ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी पर रहम किया तथा उसे कई घंटे थाने बैठाने के बाद छोड़ दिया. लेकिन मोहम्मद आफताब नामक एक व्यक्ति जो अधिकारी के साथ थे. उसे हिरासत में ले लिया गया. आरोप यह भी है कि पुलिस ने शराब के नशे में गिरफ्तार व्यक्ति मोहम्मद आफताब के विरुद्ध साक्ष्य प्रस्तुत करने में लापरवाही बरती तथा उसे भी जमानत मिल गई. जब पूरा मामला सुर्खियों में आया तो पुलिस महकमा में हड़कंप मच गया.

बता दें की सोमवार को सीएम नीतीश कुमार का समाज सुधार अभियान कार्यक्रम था और इस कार्यक्रम में सीएम के आने से चंद मिनट पहले ही रोहतास के एसपी आशीष भारती ने थानाध्यक्ष के निलंबन की पुष्टि करते हुए बताया कि पूर्ण शराबबंदी में लापरवाही बरतने के आरोप में यह कार्रवाई की गई है. चर्चा यह है कि शराबबंदी को लेकर जीरो टॉलरेंस की नीति अपना रहे सीएम नीतीश कुमार के सासाराम पहुंचने से पूर्व पुलिस कप्तान ने यह कार्रवाई कर लापरवाह और अनुशासनहीन पुलिस अधिकारियों को एक संदेश देने का काम किया है.

सासाराम से राजू की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News